Subscribe:

Ads 468x60px

रविवार, 10 जनवरी 2016

सरकारी बैंक की भर्ती - ब्लॉग बुलेटिन

प्रिय ब्लॉगर मित्रों,
प्रणाम |

एक सरकारी बैंक में भर्ती का इंटरव्यू चल रहा था। एचआर मैनेजर पहले सवाल का जवाब सुनकर ही 200 से ज्यादा लोगो को रिजेक्ट कर चूके थे।

अब अंतिम 3 बचे थे...

मैनेजर: तुम्हारा नाम क्या है?

पहला कैंडिडेट
कैंडिडेट 1: सुरेश सिंह

मैनेजर: Get out.

दूसरा कैंडिडेट
मैनेजर: तुम्हारा नाम क्या है?

कैंडिडेट 2: मेरा नाम गिरीश चंद्र है।

मैनेजर: दफा हो जाओ।

तीसरा कैंडिडेट
मैनेजर: तुम्हारा नाम क्या है?

तीसरा कैंडिडेट कुछ नहीं बोला

मैनेजर: मैंने पूछा What's your name?

कैंडिडेट फिर चुप

मैनेजर: अबे अपना नाम बता

कैंडिडेट अभी भी चुप
मैनेजर: सर कृपया अपना नाम बताइये।

कैंडिडेट 3: मुझे नहीं पता, काउंटर नंबर 4 में पूछिये।

मैनेजर: बहुत खूब तुम इस पद के लिए एकदम सही हो...तुम्हारी नौकरी पक्की।

सादर आपका
शिवम् मिश्रा
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

बाप अपने बेटे की बलि दे रहा है!शर्मनाक है?साक्षरता,विकास और रोज़गार 

1857 की क्रान्ति में पेशवा का योगदान

प्राची में डूबा अंशुमान ,....

udaya veer singh at उन्नयन (UNNAYANA)

शौक़ जल्व:गरी का

Suresh Swapnil at साझा आसमान

जोगी इस तूफ़ां में नहीं उखड़े तो पुस्तें लग जाएंगी उखाड़ने में....

153. मिट्टी की झोपड़ी

जयदीप शेखर at कभी-कभार

रवीन्द्र कालिया की कहानी 'नौ साल छोटी पत्नी'

Santosh Chaturvedi at पहली बार

मेरा दर्द न जाने कोय - कविता

सर के बाल कब धोऊ...???

Jyoti Dehliwal at आपकी सहेली

बीते साल की कुछ बातें और नए साल पर की गयी एक पुरानी आदत की शुरुआत

मन्नत [लघुकथा]

सरिता भाटिया at मेरी सच्ची बात
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
अब आज्ञा दीजिये ...
 
जय हिन्द !!!

8 टिप्पणियाँ:

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

बढ़िया बुलेटिन । सुंदर प्रस्तुति ।

Vikram Pratap singh ने कहा…

बढ़िया प्रस्तुति शिवम् जी।

yashoda Agrawal ने कहा…

समस्त रचनाएं पठनीय
आभार इन मोतियों के लिए
सादर

Jyoti Dehliwal ने कहा…

उम्दा लिंक्स! मेरी पोस्ट शामिल करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद।

Kavita Rawat ने कहा…

बढ़िया लिंक्स-सह-बुलेटिन प्रस्तुति हेतु आभार!

शिवम् मिश्रा ने कहा…

आप सब का बहुत बहुत आभार |

Aparna Sah ने कहा…

sundar buletin

Barun K. Sakhajee ने कहा…

धन्यवाद। मगर जिस रफ्तार से हम लिखते हैं उतनी रफ्तार से पढ़ते नहीं। लोकाचार में वाह, अच्छा वगैरह-वगैरह बिन पढ़े ही अक्सर दिया जाता है। इस पर सोचना चाहिये।

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार