Subscribe:

Ads 468x60px

सोमवार, 7 दिसंबर 2015

प्रतिभाओं की कमी नहीं - एक अवलोकन 2015 (७)




कदम रुकने नहीं चाहिए, प्रतिभाओं से मिलने के लिए क़दमों को बढ़ाना ही होगा, ठीक उसी तरह जैसे सूरज आता है जगाने, रात आती है सुलाने  ... 


ये जीना भी कोई जीना है लल्लू !
[dp.jpg]

दुआ

उस रोज़ जब
तूने अपनी उँगलियों में गंगाजल लेकर
छिड़के थे कुछ छींटे मंतर भरे
और बंद आँखों संग बुदबुदाया था कुछ
ज़्यादा नहीं माँगा होगा तूने माँ
बस यही कि मेरे लाल को नज़र न लगे किसी की 
और इस बार तो कम-से-कम पास हो जाए इम्तेहान में;
तेरी उन दुआओं का ही असर है शायद
मैं वहां हूँ, जहां हूँ...
और अब मेरी बस यही दुआ है कि
एक बार उतनी रूहानियत
उतनी शिद्दत
और उतने ही जतन से
तेरे लिए कुछ मांग पाऊँ...

6 टिप्पणियाँ:

Kavita Rawat ने कहा…

आदिल की सुन्दर रचना प्रस्तुति हेतु आभार!

vibha rani Shrivastava ने कहा…

अति सुंदर रचना
आप मोती चुनती हैं

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

वाह !

Asha Joglekar ने कहा…

माँ तो होती ही है ममतामयी पर कोई संतान भी ऐसा सोचे.....वाह।

शिवम् मिश्रा ने कहा…

एक बार फ़िर आप के चयन के कारण शब्दों की जादूगरी देखने को मिली ... आभार दीदी |

kuldeep thakur ने कहा…

सुंदर बहुत अच्छा लग रहा है....

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार