Subscribe:

Ads 468x60px

शनिवार, 12 दिसंबर 2015

प्रतिभाओं की कमी नहीं - एक अवलोकन 2015 (१२)


क्या है अस्तित्व 
पैसे,पार्टीज़,चकाचौंध परिधान  ... किसे कहेंगे अस्तित्व ? 
अस्तित्व है ईंट का घोंसला 
जिसमें माँ की हथेलियों की गर्माहट 
घर  परेशानियों को पिघला देती है 
...... 
बंधू 
थोड़ा पीछे जाओ 
कुछ अधिकार जियो 
कुछ कर्त्तव्य 
फिर पढ़ने का वक़्त निकालो 

तभी जानोगे प्रतिभाओं की कमी नहीं, यहाँ भी नहीं 

मिलिए,
शिखा वार्ष्णेय 
मेरा फोटो


अधिकारों की दुविधा....


ज़माना बदल रहा है, ज़माने का ख़याल भी और उसके साथ कुछ दुविधाएं भी. आज इस देश काल, परिवेश  में समय की मांग है कि घर में पति पत्नी दोनों कमाऊ हों. यानि दोनों का काम करना और धन कमाना आवश्यक है खासकर लंदन जैसे शहर में. जहाँ एक ओर बाहर जाकर काम करना और अपना कैरियर बनाना आज की स्त्री के लिए आर्थिक रूप से आवश्यक हो गया है वहीँ उसके अस्तित्व के लिए भी जरुरी होता जा रहा है. 

अब एक और सार्थक कैरियर बनाना उसके अंदर के नारीवादी अधिकारों में आता है तो  वहीं दूसरी और माँ बनना भी उसका अधिकार है जिसे वह छोड़ना नहीं चाहती। अब ऐसे में समस्या यह कि इन दोनों अधिकारों की पूर्ती कैसे हो. एक कामकाजी औरत माँ का फ़र्ज़ कैसे निभाये ? बच्चा पैदा करना उसका अधिकार है, पर समस्या यह कि उस बच्चे की देखभाल कौन करे. 

यूँ पश्चिमी सामाजिक व्यवस्था में यह थोड़ा आसान हो गया है, उनके समाज में नारीवादी क्रांति हुए काफी समय हो गया और उन्होंने अपने इन क्रांति के दिनों में एक समाधान ढूंढ निकाला "नया पुरुष" जो घर में रह सकता था, खाना बना सकता था, कपडे धो सकता था और बच्चे की नैपी भी बदल सकता था. हालाँकि उन माओं को भी अपनी श्रेष्ठता की भावना के चलते इन नए पुरुषों पर अपने बच्चे की सही देखभाल का पूरा भरोसा नहीं था परन्तु फिर भी यह नैनी से बेहतर विकल्प था और इस समाज में बच्चों के छोटे रहते कई परिवारों में हाउस हसबैंड देखे जा सकते हैं. 

परन्तु हमारे एशियाई समाज में इस "नए पुरुष" की उत्पत्ति अभी भी पूरी तरह से नहीं हुई है. वे बेशक लंदन में हों या फिर चीन में, वे परिवेश के आधार पर अधिक से अधिक घर के कामों में हाथ बटा कर एक अच्छे साथी का खिताब तो पा सकते हैं परन्तु बच्चे की देखभाल अभी भी मुख्य: तौर पर माँ का ही जिम्मा माना जाता है. ऐसे में कामकाजी माओं के पास एक ही विकल्प रहता है वह है नैनी। जो उसके बच्चे के हर काम करती है. उसकी जरूरतों का ध्यान रखती है और माँ जब काम से घर वापस आती है तो बच्चा उसे नहाया -धोया, साफ- सुथरा, खाता - पीता उसके गले लगने को और खेलने के लिए तैयार मिलता है. फिर कुछ ही देर बार एक बेड टाइम स्टोरी सुनकर सो जाता है. 

यानि देखा जाए तो जरुरत सबकी पूरी हो रही हैं पर कहीं माँ का दिल कसक जाता है. बच्चे की परवरिश में एक माँ अपने आपको बहुत पीछे पाती है. क्योंकि बच्चे के पैदा होने से कम से कम ११ - १२ साल तक की उम्र तक उस माँ का बच्चे से रिश्ता बस कुछ पलों का ही रहता है. वह बच्चे का कोई काम नहीं करती तो जाहिर है उनके प्रति उसका आत्मविश्वास कम रहता है और आत्मविश्वास कम होने से अधिकार की भावना भी कम होने लगती है और फिर बच्चे के साथ वह असली रिश्ता नहीं बन पाता। अधिकांश समय नैनी के साथ बिताने के कारण बच्चा उसी से ज्यादा जुड़ा रहता है और कई बार तो स्कूल या अन्य स्थानो, आयोजनों में माँ द्वारा निभाये जाने वाले कार्य भी नैनी ही निभाते हुए देखी जाती है. ऐसे में इस प्रगतिशील औरत के अंदर की माँ कसमसा जाती है. रात को सोते हुए जब बच्चा पूछता है "कल स्कूल से लेने आप आओगी न मम्मा ? कोई बात नहीं, देर हो जाएगी तो मैं इंतज़ार कर लूंगा"। तो उस माँ का कलेजा बाहर आ जाता है. उसे लगता है इस नैनी की सुविधा ने उसे एक बुरी माँ बना दिया है, जो अपने बच्चे के प्रति कोई जिम्मेदारी नहीं निभाती। 
एक नैनी बेशक कितनी भी अच्छी हो, वह अपना काम करती है, अपना कर्तव्य निभाती है. बच्चे को माता - पिता का स्नेह नहीं दे सकती और फिर यह बच्चे भी बड़े होकर अपने रिश्तों के प्रति उस तरह का लगाव नहीं महसूस करते। 

अत: अपने इस मातृत्व के कारण बहुत ही माएं बच्चे की परवरिश के दौरान अपने कामकाजी घंटों में परिवर्तन कर लेती हैं, देर रात तक अतिरिक्त कार्य करतीं हैं कि बच्चे के लिए उन्हें पूरा समय मिले। ऐसे में कहीं न कहीं उन्हें अपने कैरियर से समझौता करना ही पड़ता है और इसके लिए वह तैयार रहतीं हैं. 
क्योंकि, आप उन्हें नैनी कहिये, गवर्नेस कहिये, हेल्पर कहिये या केयर टेकर कहिये …कोई भी माँ का विकल्प नहीं हो सकती।

7 टिप्पणियाँ:

गगन शर्मा, कुछ अलग सा ने कहा…

परस्पर जान-पहचान बढ़ने का आपका प्रयास स्तुत्य है।

Kavita Rawat ने कहा…

बहुत बढ़िया परिचय प्रस्तुति हेतु आभार!

shikha varshney ने कहा…

बहुत बहुत शुक्रिया. सराहनीय प्रयास है प्रतिभाओं से मिलवाने का.

सदा ने कहा…

Antim panktiyan behad sashakt ..... Koi bhi vikalp nhi......
....... Chayan va prastuti sarahneey
sadar

शिवम् मिश्रा ने कहा…

अक्सर पढ़ते रहते है शिखा जी को ... :)

kuldeep thakur ने कहा…

अच्छी रचना....

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

बढ़िया !

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार