Subscribe:

Ads 468x60px

शुक्रवार, 20 नवंबर 2015

ब्लॉग बुलेटिन - कवियित्री निर्मला ठाकुर जी की प्रथम पुण्यतिथि

सभी ब्लॉगर मित्रों को मेरा सादर नमस्कार।।
निर्मला ठाकुर का जन्म 1942 ई. में उत्तर प्रदेश के ज़िला आजमगढ़ में 'महुई' नामक ग्राम में हुआ था। निर्मला जी प्रख्यात आलोचक मलयज की बहन थीं। बचपन से ही मलयज और शमशेर सिंह का इन्हें सान्निध्य प्राप्त हुआ था। इन्होंने 'इलाहाबाद विश्वविद्यालय' से हिन्दी में एम. ए. की डिग्री प्राप्त की थी।
निर्मला ठाकुर भारत की प्रसिद्ध कवियित्री थीं। देश के प्रमुख पत्र-पत्रिकाओं में उनकी कविताएँ लगातार प्रकशित हुई थीं। इन्होंने प्रसिद्ध कहानीकार दूधनाथ सिंह से प्रेम विवाह किया था। वर्ष 2005 में निर्मला ठाकुर का काव्य संग्रह 'कई रूप-कई रंग' और 2014 में 'हंसती हुई लड़की' 'राधाकृष्ण प्रकाशन' से प्रकाशित हुआ था।
अंतिम दिनों में निर्मला ठाकुर आर्थराइटिस की मरीज हो गई थीं। तमाम इलाज के बाद भी सुधार नहीं हुआ, बल्कि समय के साथ दूसरे अन्य रोगों ने उन्हें दबोच लिया। 20 नवम्बर2014 को झूँसी ( इलाहाबाद ) स्थित उनके आवास पर निर्मला ठाकुर का निधन हुआ। निर्मला ठाकुर की जिंदादिली, मेहमाननवाजी और सहयोगी रवैये ने उन्हें साहित्य जगत में मशहूर कर दिया था।
 ( जानकारी स्त्रोत : http://bharatdiscovery.org/india/निर्मला_ठाकुर )

आज कवियित्री निर्मला ठाकुर जी की प्रथम पुण्यतिथि पर हिन्दी ब्लॉग जगत और हमारी ब्लॉग बुलेटिन टीम उन्हें स्मरण करते हुए भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं। 


अब चलते हैं आज की बुलेटिन  की ओर ….














आज की बुलेटिन में बस इतना ही कल फिर मिलेंगे। तब तक के लिए शुभरात्रि। सादर  … अभिनन्दन।। 

6 टिप्पणियाँ:

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

कवियित्री निर्मला ठाकुर जी की प्रथम पुण्यतिथि पर उन्हे श्रद्धाँजलि तथा नमन । आज के सुंदर बुलेटिन में 'उलूक' के सूत्र 'झूठ सारे सोने से मढ़ कर सच की किताबों पर लिख दिये जायें' को स्थान देने के लिये आभार हर्षवर्धन ।

Rushabh Shukla ने कहा…

कवियित्री निर्मला ठाकुर की प्रथम पूण्यतिथि पर उन्हें श्रध्दांजली अर्पित करता हूँ |

सुन्दर बुलेटिन |

parmeshwari choudhary ने कहा…

अच्छे लिंक्स..धन्यवाद

संतोष त्रिवेदी ने कहा…

निर्मला जी को हार्दिक श्रद्धांजलि

शिवम् मिश्रा ने कहा…

कवियित्री स्व॰ निर्मला ठाकुर जी की प्रथम पुण्यतिथि पर उन्हें मेरी भावभीनी श्रद्धांजलि।

Kavita Rawat ने कहा…

निर्मला जी की प्रथम पुण्यतिथि पर सादर श्रद्धा सुमन!
बहुत बढ़िया बुलेटिन प्रस्तुति में मेरी ब्लॉग पोस्ट शामिल करने हेतु आभार!

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार