Subscribe:

Ads 468x60px

मंगलवार, 24 नवंबर 2015

कहीं ई-बुक आपकी नींद तो नहीं चुरा रहे - ब्लॉग बुलेटिन

प्रिय ब्लॉगर मित्रों,
प्रणाम |

आधुनिक तकनीक ने जहां एक ओर हमारे जीवन को आसान बना दिया है, वहीं दूसरी ओर इसकी वजह से कई तरह की स्वास्थ्य समस्याएं भी पैदा हो रही हैं। रात में आईपैड, लैपटॉप या ई-रीडर पर किताबें पढऩे से नींद की गुणवत्ता कम हो जाती है। इससे सोने के लिए तैयार होने में लगने वाले वक्त और नींद के कुल समय पर नकारात्मक असर पड़ता है। अमेरिका के पेनसिल्वेनिया स्टेट यूनिवर्सिटी के असिस्टेंट प्रोफेसर एना मारिया के मुताबिक इस शोध के लिए 12 लोगों  पर दो हफ्ते तक नजऱ रखी गई। इसमें से छह लोगों को रात में सोने से पहले ई-बुक और छह लोगों को सामान्य किताब पढऩे को कहा गया। इसके बाद इन लोगों में नींद वाले हॉर्मोन मेलाटोनिन के स्तर, नींद की गहराई और अगली सुबह उनकी सजगता के स्तर की जांच की गई। शोध में यह पाया गया कि जो लोग रोज़ ई-बुक पढ़ते हैं, वे कई घंटे कम सोते हैं और उनमें रैपिड आई मोमेंट स्लीप का समय भी कम हो जाता है। नींद की इसी अवस्था में यादें संरक्षित होती हैं। इसलिए ज्य़ादा समय तक ई-बुक पढऩे से स्मरण-शक्ति कमज़ोर होती है और डिमेंशिया का भी खतरा बढ़ जाता है। इसलिए अगर आप पढऩे के शौकीन हैं तो ई-बुक के बजाय किताबों के साथ वक्त बिताएं। अगर किसी वजह से ई-बुक पढऩा ज़रूरी हो तो भी सोने से पहले ई-बुक पढऩे से बचें। 
इस आलेख को आप यहाँ भी पढ़ सकते हैं |

सादर आपका
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

इक नयी अग्नि परीक्षा देती रही...

हिम्मतें दुश्वारियों में दोस्त बन जाएँगी .

मील के पत्थर (११)

{ ३१३ } मिलता नहीं कहीं ज़िन्दगी का साहिल

अतुल्य भारत या असहिष्णु भारत?

एक खुला खत आमिर खान के नाम

गजब है सोचा भी नहीं कभी कभी ये सब भी यहीं पर होना है

जाने कहाँ ?

बेतरतीब उलझन

भये प्रकट कृपाला दीनदयाला - कलिंग यात्रा

उम्मीद की इबारत

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
अब आज्ञा दीजिये ...

जय हिन्द !!!

9 टिप्पणियाँ:

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

सुंदर मंगलवारीय बुलेटिन प्रस्तुति । आभार शिवम जी 'उलूक' के सूत्र 'गजब है सोचा भी नहीं कभी कभी ये सब भी यहीं पर होना है' को भी जगह दी ।

Tushar Rastogi ने कहा…

जय हो

Tushar Rastogi ने कहा…

जय हो

ब्लॉ.ललित शर्मा ने कहा…

पोस्ट शामिल करने के लिए आपका आभार।

Madhulika Patel ने कहा…

ब्लॉग बुलेटिन में मेरी रचना को शामिल करने पर तहे दिल से शुक्रिया । सुंदर प्रस्तुति ।

Rushabh Shukla ने कहा…

​​​​​​सुन्दर रचना ..........बधाई |
​​​​​​​​​​​​आप सभी का स्वागत है मेरे इस #ब्लॉग #हिन्दी #कविता #मंच के नये #पोस्ट #​असहिष्णुता पर | ब्लॉग पर आये और अपनी प्रतिक्रिया जरूर दें |

​http://hindikavitamanch.blogspot.in/2015/11/intolerance-vs-tolerance.html​​

सदा ने कहा…

Bht hi achchhe links .....avm prastuti....
Aaabhaaar

Kavita Rawat ने कहा…

बहुत सुन्दर बुलेटिन प्रस्तुति
आभार!

शिवम् मिश्रा ने कहा…

आप सब का बहुत बहुत आभार |

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार