Subscribe:

Ads 468x60px

सोमवार, 16 नवंबर 2015

नहीं रहे हरफनमौला अभिनेता सईद जाफरी - ब्लॉग बुलेटिन

प्रिय ब्लॉगर मित्रों,
प्रणाम |

हिंदी फिल्मों और थिएटर के साथ ब्रिटिश फिल्मों में भी अपने शानदार अभिनय के लिए पहचाने जाने वाले हरफनमौला अभिनेता सईद जाफरी का रविवार को निधन हो गया है। वह 86 साल के थे। 

जाफरी की तीन बेटियां हैं मीरा, ज़िया और सकीना जो खुद एक अभिनेत्री हैं। सईद ने अभिनेत्री और लेखिका मधुर जाफरी से शादी की थी लेकिन 1966 में दोनों ने एक दूसरे से अलग होने का फैसला कर लिया था। हालांकि बाद में जाफरी ने मधुर के साथ तलाक के फैसले पर अफसोस जताया था। उनकी भतीजी शाहीन अग्रवाल ने अपने फ़ेसबुक पेज पर इसकी जानकारी दी है। 

थिएटर से अभिनय करियर की शुरुआत करनेवाले सईद ने 70 से लेकर मौजूदा दौर तक कई हिंदी फिल्मों में अभिनय किया लेकिन ‘गांधी’, ‘शतरंज के खिलाड़ी’, ‘चश्मे बद्दूर’ और ‘मासूम’ जैसे कुछ नाम हैं जिसके लिए उन्हें हमेशा याद किया जाएगा।

सत्यजीत रे की फिल्म ‘शतरंज के खिलाड़ी’ में मीर रोशन अली के किरदार के लिए सईद जाफरी को फिल्मफेयर की ओर से सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेता का पुरस्कार दिया गया था। सिर्फ राष्ट्रीय ही नहीं अंतरराष्ट्रीय फिल्मों में भी सईद ने अपनी प्रतिभा का जौहर दिखाया है। रिचर्ड एटनबॉरो की गांधी में सईद ने सरदार वल्लभ भाई पटेल का रोल निभाया है।
पियर्स ब्रोसनन, शॉन कोनरी और माइकल केन जैसे अंतरराष्ट्रीय नाम सईद जाफरी के सह कलाकार रह चुके हैं। वहीं तंदुरी नाइट्स और ज्वेल इन द क्राउन जैसे टीवी शो के लिए भी सईद जाने जाते रहे हैं। उन्होंने कला फ़िल्मों के साथ-साथ व्यावसायिक सिनेमा में भी भरपूर नाम कमाया। सत्यजीत रे की फ़िल्म शतरंज के खिलाड़ी में अभिनय के लिए उन्हें सर्वश्रेष्ठ सह अभिनेता का फ़िल्मफ़ेयर पुरस्कार मिला था।

ब्लॉग बुलेटिन की पूरी टीम और हिन्दी ब्लॉग जगत की ओर से हम सब सईद जाफरी को शत शत नमन करते है और अपनी विनम्र श्रद्धांजलि देते हैं |

सादर आपका
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

भीष्‍म साहनी की कहानी - माता-विमाता

चालीस पार की औरतें

मैं अपने पापों की पोटली ढो रहा हूँ नदी किनारे

मौन क्यों हूँ ?

यादें भूल न पाई

क्‍या है नेट न्यूट्रैलिटी

यदि यह इस्लामिक परम्परा नहीं है तो इस्लामिक समाज मुखर क्यों नहीं होता ?

भारतीय लोक मानस २१ वीं सदी में हिन्दी चित्रपट पर

अमर शहीद कर्तार सिंह सराभा जी की १०० वीं पुण्यतिथि

चाहा जिसे था दिल के बंद दरवाजे ही मिले

सहजि सहजि गुन रमैं : अपर्णा मनोज

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
अब आज्ञा दीजिये ...

जय हिन्द !!!

5 टिप्पणियाँ:

Rushabh Shukla ने कहा…

सुन्दर बुलेटिन .............

मेरी नयी रचना पर आपके सुझावों का स्वागत है |

http://hindikavitamanch.blogspot.in/2015/11/mitti-ke-diye.html

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

सईद जाफरी जी को विनम्र श्रद्धांजलि |

Asha Saxena ने कहा…

स्व.सईद जाफरी को विनम्र श्रद्धांजलि |
आज मेरी रचना की लिंक यहाँ देख बहुत प्रसन्नता हुई |मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार |

शिवम् मिश्रा ने कहा…

आप सब का बहुत बहुत आभार |

Tushar Rastogi ने कहा…

श्रद्धांजलि...

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार