Subscribe:

Ads 468x60px

रविवार, 1 नवंबर 2015

रामायण और पप्पू - ब्लॉग बुलेटिन

प्रिय ब्लॉगर मित्रों,
प्रणाम |

अध्यापक कक्षा में रामायण के इतिहास के बारे में बता रहे थे।

अध्यापक: बच्चों रामचंद्र ने समुन्द्र पर पुल बनाने का निर्णय लिया।

पप्पू: सर मैं कुछ कहना चाहता हूँ।

अध्यापक: कहो बेटा।

पप्पू: रामचन्द्र का पुल बनाने का निर्णय गलत था।

अध्यापक: कैसे?

पप्पू: सर उनके पास हनुमान थे जो उड़कर लंका जा सकते थे तो उनको पुल बनाने की कोई जरुरत ही नही थी।

अध्यापक: हनुमान ही तो उड़ना जानते थे बाकी रीछ और वानर तो नही उड़ते थे।

पप्पू: सर वो हनुमान की पीठ पर बैठकर जा सकते थे। जब हनुमान पूरा पहाड़ उठाकर ले जा सकते थे तो वानर सेना को भी तो उठाकर ले जा सकते थे।

अध्यापक: भगवान की लीला पर सवाल नही उठाया करते।

पप्पू: वैसे सर एक उपाय और था।

अध्यापक: क्या?

पप्पू: सर हनुमान अपने आकार को कितना भी छोटा बड़ा कर सकते थे जैसे सुरसा के मुँह से निकलने के लिए छोटे हो गए थे और सूर्य को मुँह में देते समय सूर्य से बड़े तो वो अपने आकार को भी तो समुन्द्र की चौड़ाई से बड़ा कर सकते थे और समुन्द्र के ऊपर लेट जाते। सारे बंदर हनुमान जी की पीठ से गुजरकर लंका पहुँच जाते और रामचंद्र को भी समुन्द्र की अनुनय विनय करने की जरुरत नही पड़ती। वैसे सर एक बात और पूछूँ?

अध्यापक: पूछो।

पप्पू: सर सुना है समुन्द्र पर पुल बनाते समय वानरों ने पत्थर पर राम राम लिखा था जिससे पत्थर पानी पर तैरने लगे थे।

अध्यापक: हाँ तो ये सही है।

पप्पू: सवाल ये है बन्दर भालुओं को पढ़ना लिखना किसने सिखाया था?

अध्यापक: हरामखोर बंद कर अपनी बकवास और मुर्गा बन जा।

तो साहब ... यह तो रही पप्पू की बात अब चलते है आज की बुलेटिन की ओर ...

सादर आपका
शिवम् मिश्रा
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

अनुप्रयुक्त भाषाविज्ञान की व्यावहारिक परख

ऋषभ देव शर्मा at ऋषभ उवाच`

कांव कांव

पुताई का सूत्र !

संतोष त्रिवेदी at टेढ़ी उँगली 
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
अब आज्ञा दीजिये ...
 
जय हिन्द !!! 

9 टिप्पणियाँ:

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

पप्पू की बात में दम है :)
सुंदर प्रस्तुति ।

संतोष त्रिवेदी ने कहा…

जय हो !

संतोष त्रिवेदी ने कहा…

जय हो !

संतोष त्रिवेदी ने कहा…

जय हो !

Rushabh Shukla ने कहा…

सुन्दर चर्चा ..... आभार आप सभी का | मेरे ब्लॉग पर आपके आगमन की प्रतीक्षा |

http://hindikavitamanch.blogspot.in/
http://kahaniyadilse.blogspot.in/

SKT ने कहा…

Sabit hua pappu hoshiyar hote hain, kuch log unhen murga jaroor bans dete hain!

Kavita Rawat ने कहा…


बहुत बढ़िया बुलेटिन प्रस्तुति हेतु आभार!

शिवम् मिश्रा ने कहा…

आप सब का बहुत बहुत आभार |

गगन शर्मा, कुछ अलग सा ने कहा…

इसीलिए कहते हैं एक ही लाठी से सबको नहीं हांकना चाहिए............................. पप्पू-पप्पू में फर्क होता है

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार