Subscribe:

Ads 468x60px

सोमवार, 7 सितंबर 2015

ख़ास एहसास से भरे ब्लॉग बुलेटिन



भावनाओं के अरण्य में कभी धूप कभी छाँव से गुजरना 
फिर थोड़ी धूप थोड़ी छाँव किसी को देना 
आसान नहीं होता !
कभी जलन होती है 
कभी सिहरन 
… कई बार होता है एक सन्नाटा और अचानक कोई आहट 
सोच के दरवाज़े खुलते बंद होते रहते हैं  … 



Search Results

3 टिप्पणियाँ:

Vandana Sharma ने कहा…

BAHUT HEE ACCHI RACHNA, JEEWAN TO DHUP CHAAWN HAI

शिवम् मिश्रा ने कहा…

सोच के दरवाज़े खुलते बंद होते रहते हैं … और आती जाती रहती हैं यादें ... अनगिनत |

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

खुलते रहें बंद होते रहें जाम नहीं हों सोच के दरवाजे बस :)
सुंदर प्रस्तुति ।

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार