Subscribe:

Ads 468x60px

गुरुवार, 10 सितंबर 2015

परमवीरों को समर्पित १० सितंबर - ब्लॉग बुलेटिन

प्रिय ब्लॉगर मित्रों,
प्रणाम |

आज १० सितंबर है ... आज का दिन जुड़ा हुआ है भारत माता के दो परम वीर सपूतों से ... अमर क्रांतिकारी जतीन्द्रनाथ मुखर्जी, जिन को बाघा जतीन के नाम से भी जाना जाता हैं और परमवीर चक्र विजेता अमर शहीद कंपनी क्वार्टर मास्टर हवलदार अब्दुल हामिद | आज इन दोनों ही की पुण्यतिथि है |

जतीन्द्रनाथ मुखर्जी
 उपनाम : बाघा जतीन
जन्मस्थल : कायाग्राम, कुष्टिया जिला बंगाल (अब बांग्लादेश मे )
मृत्युस्थल: बालेश्वर,ओड़ीशा
आन्दोलन: भारतीय स्वतंत्रता संग्राम
प्रमुख संगठन: युगांतर

बाघा जतीन ( बांग्ला में বাঘা যতীন (उच्चारणः बाघा जोतिन) ( ०७ दिसम्बर, १८७९ - १० सितम्बर , १९१५) के बचपन का नाम जतीन्द्रनाथ मुखर्जी (जतीन्द्रनाथ मुखोपाध्याय) था। वे ब्रिटिश शासन के विरुद्ध कार्यकारी दार्शनिक क्रान्तिकारी थे। वे युगान्तर पार्टी के मुख्य नेता थे। युगान्तर पार्टी बंगाल में क्रान्तिकारियों का प्रमुख संगठन थी। 


 १९६५ के भारत - पाकिस्तान युद्ध मे आज ही दिन परमवीर चक्र विजेता कंपनी क्वार्टर मास्टर हवलदार अब्दुल हामिद की शहादत हुई थी |
परमवीर चक्र विजेता कंपनी क्वार्टर मास्टर हवलदार अब्दुल हामिद का जन्म 1-जुलाई-१९३३ को, गाजीपुर (उ.प्र.) में एक साधारण दर्जी परिवार में हुआ था. वे २७ दिसम्बर १९५४ में सेना में प्रविष्ट हुये थे और अपने सेवा काल में सैन्य सेवा मेडल, समर सेवा मेडल और रक्षा मेडल से सम्मान प्राप्त किया था. १९६५ में पाकिस्तान युद्ध में असाधारण बहादुरी के लिए महावीर चक्र और परमवीर चक्र प्राप्त हुआ|


ब्लॉग बुलेटिन टीम और पूरे हिन्दी ब्लॉग जगत की ओर से भारत माता के इन दोनों सपूतों की पुण्यतिथि पर हम सब इनको शत शत नमन करते हैं | 

सादर आपका
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

उदास होना लक्‍़जरी है.....

रश्मि शर्मा at रूप-अरूप

जिंदगी की परछाईं

Harminder Singh at वृद्धग्राम

बेवक़्त हादसे

निज भाषा उन्नति अहै, सब उन्नति को मूल

Kavita Rawat at KAVITA RAWAT

यादों का बहाना

"सिर्फ कथनी ही नही, करनी भी"

राजेंद्र कुमार at भूली-बिसरी यादें

इस्ताम्बुल:"लोनली प्लानेट"... !!

अनुपमा पाठक at अनुशील

चलो शहर से गांव मुसाफिर

श्यामल सुमन at मनोरमा

खण्डहर वो

Dr.NISHA MAHARANA at Tere bin

हर पल रोना धोना क्या

shashi purwar at sapne(सपने)

दर्द का यूं दवा बनना

varsha at likh dala
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
अब आज्ञा दीजिये ...

जय हिन्द !!!

8 टिप्पणियाँ:

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

परमवीरों को नमन । सुंदर बुलेटिन सुंदर प्रस्तुति ।

रश्मि शर्मा ने कहा…

भारत माता के इन दोनों सपूतों को शत शत नमन। मेरी रचना को स्‍थान देने के लि‍ए हार्दिक धन्‍यवाद।

अनुपमा पाठक ने कहा…

शहीदों को कोटि कोटि नमन!

Dr.NISHA MAHARANA ने कहा…

amar shahidon ..ko vinamra shradhanjali ........thanks n aabhar ....

Madhulika Patel ने कहा…

भारत माता के परम वीर सपूतों को कोटि -कोटि प्रानाम ।

Madhulika Patel ने कहा…

मेरी रचना को ब्लॉग बुलेटिन में स्थान देने का बहुत बहुत शुक्रिया ।

Kavita Rawat ने कहा…

बहुत बढ़िया बुलेटिन प्रस्तुति में मेरी पोस्ट शामिल करने हेतु आभार!

शिवम् मिश्रा ने कहा…

आप सब का बहुत बहुत आभार |

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार