Subscribe:

Ads 468x60px

मंगलवार, 22 सितंबर 2015

खिड़कियों को भी जागने दो




मन के दरवाजों को खुला रखो, खिड़कियों को भी जागने दो
एहसास बिना किसी पते के घूमते हैं, उनको बेफिक्र आने दो  … 


प्रिय कवि...
नहीं होती एक कोई, रचना सर्वोत्तम...
नहीं ही होता सर्वश्रेष्ठ कोई एक कवि...
तुम मुझे प्रिय हो कवि...
समूचे के समूचे, जैसे कि तुम हो...
अपने विषय, विश्लेषण, विवेचना मे...
प्रबोधक-प्रहार, प्रपंच-परिक्रमा मे...
... द्वंद, संताप, पश्ताचाप, प्रार्थना मे...
निश्चित रहो कवि...
तुम्हारे शब्दों से पहले...
मैं समझ सकता हूँ, तुम्हें...
... आखर-आखर धुएँ मे...
अभिव्यक्ति तुम्हारी...
विलीन होती हुयी...
अपेक्षाओं के नभ मे...
और 'होम' होते हुए तुम...
शब्द-शब्द संज्ञान मे...
सच कहता हूँ, कवि...
शब्द केवल, सिहरा सकते हैं...
... मर्म, समवेदनाएँ, सहानुभूति...
क्षणभंगुरता के पार...
शब्द फिर-फिर इन्द्रजाल हैं...
... कलम कि नोंक पर सतत सवाल हैं...
तुम मुझे प्रिय हो कवि...
जो मुझसे ही तो हो तुम...
आतुर, आशंकित, आकुल...
अविराम, व्यथित, व्याकुल...
शांत, स्थिर, तृप्त, मृदुल...
एक ही समय मे...
साधु, शैतान, सब्र, और संकीर्णता से...
निबटते हुए, निजता से, कुशलता से...
अपने भीतर के सब किवाड़ धकेल कर...
... बाहर, मुझ सा ही तो, निकल आते हो...
प्रयास का सम्मान बड़ा होता है...
तुम शब्दों से कितना ही गहरा...
कोहरा, भेद दो, रचो कालजयी...
... मुझे तुम्हारा तुम्हारे भीतर से...
उबर आने का प्रयास प्रिय है...
मुझे प्रिय हूँ मैं, और...
'तुम' मुझे प्रिय हो कवि... ... ... !!

अनुशील: जीवन-मृत्यु!



Ruchi Bhalla

देखना है अपने मिलखे का गाँव........
गाँव देखने से पहले मुझे ढूँढना है
एक वो ऊँचा पहाड़ी टीला
जहाँ से खड़े होने पर
मेरे और उस गाँव के बीच में
कोई कँटीला तार न आ सके.......

6 टिप्पणियाँ:

अनुपमा पाठक ने कहा…

एहसास बिना किसी पते के घूमते हैं, उनको बेफिक्र आने दो …

वाह!
so true!

yashoda agrawal ने कहा…

शुभ संध्या
उत्तम रचनाओं का संगम
आज बरसों बाद एक संदूक
दिखा पुराना...
सादर

Kavita Rawat ने कहा…

बहुत अच्छी लगी लिंक्स-सह-कविता प्रस्तुति
आभार!

शिवम् मिश्रा ने कहा…

जय हो ... दीदी जय हो |

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

बहुत सुंदर प्रस्तुति ।

Aparna Sah ने कहा…

sundar prastuti.

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार