Subscribe:

Ads 468x60px

मंगलवार, 4 अगस्त 2015

सोच और ब्लॉग बुलेटिन




      सोच प्रभावित होती है
      पर होती अपनी ही सोच है  ... 
      मन स्वीकार,अस्वीकार के मंथन से गुजरता है 
      और अंततः होती अपनी ही सोच है  ... 



5 टिप्पणियाँ:

Kavita Rawat ने कहा…

सोच पर किसी का बस नहीं .... अपनी अपनी सोच
बहुत बढ़िया बुलेटिन प्रस्तुति हेतु आभार!

Upasna Siag ने कहा…

bahut sundar links...

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

सुंदर सूत्र सुंदर बुलेटिन ।

शिवम् मिश्रा ने कहा…

"सोच प्रभावित होती है
पर होती अपनी ही सोच है ...
मन स्वीकार,अस्वीकार के मंथन से गुजरता है
और अंततः होती अपनी ही सोच है ... "


सहमत ... :)

Aparna Sah ने कहा…

badhiya buletin..kabhi mere blog pe bhi aayen.

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार