Subscribe:

Ads 468x60px

बुधवार, 19 अगस्त 2015

आज की हकीकत - ब्लॉग बुलेटिन

प्रिय ब्लॉगर मित्रों,
प्रणाम |

आज की हकीकत;
पहले दो लोग लडते झगडते थे तो तीसरा छुड़वाने आ जाता था। आज अगर ऐसा हो तो तीसरा वीडियो बनाने लग जाता है।

सादर आपका
शिवम् मिश्रा

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

बेटियों का दंश (४) !

रेखा श्रीवास्तव at मेरा सरोकार

इतिहास के झरोखे से : रानी दुर्गावती...

संध्या शर्मा at मैं और मेरी कविताएं

यादो के पिटारे में..........

Shekhar Kumawat at काव्य वाणी

बाहुबली का सम्मोहन बल

गगन शर्मा, कुछ अलग सा at कुछ अलग सा

आजादी का अलार्म !

संतोष त्रिवेदी at टेढ़ी उँगली

सरकारी स्कूल में जरूरी है अब पढ़ाना कोर्ट का आदेश है शुरु होना ही है शुरु हो भी जायें

सुशील कुमार जोशी at उलूक टाइम्स

गरीबी का मैग्नेटिज्म

Arun Roy at सरोकार

लज्ज़तदार स्पेन...

shikha varshney at स्पंदन SPANDAN

नाग पंचमी , मुलायम और नारायण दत्त तिवारी

ये तानाशाही ज़रूर चलेगी ज़रूर चलेगी

कौन नाता...?

अनुपमा पाठक at अनुशील

रामौतार सुनो !

गिरिजा कुलश्रेष्ठ at Yeh Mera Jahaan 

नोकिया का फोन

एक शख्स - जिसकी काबिलियत हर दिन की जानकारी के साथ जागती है

रश्मि प्रभा... at मेरी नज़र से

मेरी कहानी मेरे साथ खत्म हो जाएगी - कलाम साहब की कहानी गुलज़ार की ज़ुबानी

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
अब आज्ञा दीजिये ...

जय हिन्द !!!

10 टिप्पणियाँ:

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

सुंदर बुलेटिन । आभारी है 'उलूक' भी सूत्र 'सरकारी स्कूल में जरूरी है अब पढ़ाना कोर्ट का आदेश है शुरु होना ही है शुरु हो भी जायें' को स्थान देने के लिये ।

संध्या शर्मा ने कहा…

रोचक व ज्ञानवर्धक लिंक संकलन।
शुभकामनाएं ...

shikha varshney ने कहा…

बहुत बढ़िया लिंक्स हैं।

shikha varshney ने कहा…

बहुत बढ़िया लिंक्स हैं।

shikha varshney ने कहा…

बहुत बढ़िया लिंक्स हैं।

संतोष त्रिवेदी ने कहा…

यही हो रहा है। अब संवेदनशीलता और सामाजिकता के ऊपर बाजारवाद हावी हो गया है।

संतोष त्रिवेदी ने कहा…

यही हो रहा है। अब संवेदनशीलता और सामाजिकता के ऊपर बाजारवाद हावी हो गया है।

Anita ने कहा…

आपने बिलकुल सही कहा है..वीडियो बनाने का मर्ज सिर चढ़ कर बोल रहा है..पठनीय लिंक्स..आभार !

गिरिजा कुलश्रेष्ठ ने कहा…

लगभग सभी लिंक्स पढ़ चुकी . एक से बढ़कर एक है . मेरी रचना भी इनमें शमिल कर आपने उसको मान दिया है .

शिवम् मिश्रा ने कहा…

आप सभी का बहुत बहुत आभार |

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार