Subscribe:

Ads 468x60px

रविवार, 5 जुलाई 2015

संडे स्पेशल भेल के साथ बुलेटिन फ्री

प्रिय ब्लॉगर मित्रों,
प्रणाम |

आज आपबीती सुनिए ... यहाँ बाज़ार मे एक भेलपुरी वाला खड़ा होता है ...

उस भेलपुरी वाले का मेनू:

1) भेलपुरी 10 रू
2) स्पेशल भेलपुरी 12 रू
3) व्हेरी स्पेशल भेलपुरी 15 रु
4) एक्सट्रा स्पेशल भेलपुरी 16 रु
5) डबल एक्सट्रा स्पेशल भेलपुरी 20 रु
6) संडे स्पेशल भेलपुरी 25 रु
(सिर्फ रविवार)

भेलपुरी की अलग अलग टेस्ट चखने के लिए मैं रोज एक अलग भेलपुरी खाने लगा। पर जल्द ही मुझे एहसास हुआ कि, हर एक भेलपुरी का एक ही टेस्ट है। आखिरकार एक दिन मैने उससे इस का कारण पुछा, "हर एक भेल का एक जैसा ही टेस्ट है ... फिर दाम अलग अलग क्यूँ !?"

भेलवाला: भेलपुरी मतलब भेलपुरी. . . सिर्फ 10 रु.
स्पेशल भेलपुरी मतलब चमच धोया हुआ।
व्हेरी स्पेशल भेलपुरी मतलब चमच और प्लेट, दोनों ही धोये हुए।
एक्सट्रा स्पेशल भेलपुरी मतलब भेल देने से पहले हाथ धुले हुए।
डबल एक्सट्रा स्पेशल भेलपुरी मतलब पीने का साफ पानी अलग से दिया जाता है।

इतना बोलकर वह चुप हो गया।

मैं: फिर संडे स्पेशल मतलब क्या?

भेलवाला: संडे को मैं नाहता हूँ, इसलिए संडे स्पेशल अलग से।

मैं चुपचाप वहाँ से यह सोचते हुये चला आया ... कि इस से तो मैगी भली थी ...  :(

सादर आपका
शिवम् मिश्रा
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

दीवानी निर्झर बहे

व्यंग्य -मोटे को मोटा कहना

आधुनिक वॉस्को डी गामा...

त्रिलोक सिंह ठकुरेला के दोहे

परिचय

कॉपीराइट वाली मुस्कान..

दो रंग

किस्से छोटे- छोटे

एक ग़ज़ल : और कुछ कर या न कर...

प्रभुभक्तो के लिए एक भक्तिगीत

मेरा बचपन

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
अब आज्ञा दीजिये ...

जय हिन्द !!!

7 टिप्पणियाँ:

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

हा हा शिवम इस भेलपुरी वाले को एक आइडिया मेरी तरफ से अपने मीनू में लिख दे नहा कर आये ग्राहक को एक के साथ एक भेल पूरी मुफ्त । बहुत सुंदर बुलेटिन ।

Shalini Kaushik ने कहा…

very nice presentation .thanks to give honour my post .

Rangraj Iyengar ने कहा…

शिवम जी,

आपने मेरी ब्लॉग-रचना बुलेटिन में चुनी,
धन्यवाद और आभार,

Neeraj Kumar Neer ने कहा…

सुन्दर सूत्रों का संकलन...

shikha varshney ने कहा…

गज़ब की भेल और बुलेटिन भी :)

Kavita Rawat ने कहा…

रोचक आपबीती ...मैगी कम से कम घर में साफ़ सुथरे हाथों से तो बनती थी ...
बढ़िया लिंक-सह-बुलेटिन प्रस्तुति हेतु आभार!

शिवम् मिश्रा ने कहा…

आप सब का बहुत बहुत आभार |

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार