Subscribe:

Ads 468x60px

सोमवार, 1 जून 2015

देश का सच्चा नागरिक ... शराबी - ब्लॉग बुलेटिन


प्रिय ब्लॉगर मित्रों,
प्रणाम |

आज से बढ़ाएँ गए सर्विस टैक्स को ले कर बड़ा बवाल मचा हुआ है ... जिसे देखो वो शिकायत करता मिलता है ... बस एक ही ऐसा बंदा है जिसे इस बवाल मे कोई रुचि नहीं ... और वो है एक शराबी !!!  

शराब का हमारी अर्थव्यवस्था में बडा महत्व है, क्योंकि शराबी एक मॉडल टैक्सपेयर होता है। किसी भी आइटम पर टैक्स लगाया जाये, उसे देने वाला बवाल मचा देता है। पैट्रोल पर एक डेढ़ रुपया बढ़ जाऐ, मार ड्रामा शुरु हो जाता है। बीएमडब्ल्यु वाला भी हुड़की लगाकर चैनलों को बयान देने लगता है कि हम मर गये, लुट गये, तबाह हो गये।

शराब का खरीदार अत्यँत शालीन होता है। औसतन हर साल शराब के भाव 15-20 परसेंट तो बढ़ते ही है, दिखा दे मुझे कोई कि कभी किसी शराबी ने चिक-चिक मचायी हो। इतिहास में एक भी जुलूस ऐसा नहीं दर्ज है, जिसमें शराब के खरीदारों ने डीएम को जुलूस निकालकर ज्ञापन दिया हो कि प्लीज दारु सस्ती कर दो। ऐसे उद्विग्न समय में शराबी का सा संयम सराहनीय है, ये इतनी दुर्लभ क्वालिटि है कि सिर्फ शराबियों में ही पायी जाती है। 

उत्तर प्रदेश में शराब का कारोबार करीब 14,000 करोड़ रुपये का टर्नओवर दिखा रहा है, करीब 17,000 दुकानें हैं, सभी पर अनवरत लाईन लगी हुई है, कई की जालीदार खिडकियाँ तो सुबह ब्रह्मकाल मे ही खडका दी जाती है। 

इस लिए लोगो को अनुशासन, शालीनता और संयम का पाठ अगर लेना हो तो किसी शराबी से ले और एक सच्चे नागरिक बन अपने सभी टैक्स समय से दें | 

सादर आपका
********************************

मिलिये मिसेज शर्मा से

गिरिजा कुलश्रेष्ठ at Yeh Mera Jahaan 
 
******************************** 
अब आज्ञा दीजिये ...
 
जय हिन्द !!! 

10 टिप्पणियाँ:

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

जी नहीं कुछ जगह लोग जागने लगे हैं हमारे यहाँ की शराब की दुकानों पर अब लिखा हुआ दिखाई देने लगा है "यहाँ रसीद माँगने पर दी जाती है"

सुंदर विषय सुंदर सूत्रों के साथ सुंदर बुलेटिन ।

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

सच कहा, शराबी को कभी आन्दोलन करते नहीं देखा है।

विकेश कुमार बडोला ने कहा…

रोचक बात कही है। धन्‍यवाद।

ऋषभ शुक्ला ने कहा…

SUNDAR Buletin .............

HARSHVARDHAN ने कहा…

शराबी और अर्थव्यवस्था का हिस्सा!! बहुत ही रोचक बुलेटिन।

Aparna Sah ने कहा…

behad dilchasp buletin..

शिवम् मिश्रा ने कहा…

आप सब का बहुत बहुत आभार |

Digamber Naswa ने कहा…

मस्त चर्चा ...

गगन शर्मा, कुछ अलग सा ने कहा…

@प्रवीण पांण्डेय जी,
वैसे तो ये आंदोलन नहीं करते पर पिछले दिनों पंजाब में नशा विरोधी रैली निकली थी जिसमें अधिकाँश मद-प्रेमी मद-मस्ती के साथ शामिल थे :-)

वाणी गीत ने कहा…

इनके हितों पर कुठाराघात भी तो नहीं होता.
कैसे बने वे क्रांतिकारी!

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार