Subscribe:

Ads 468x60px

सोमवार, 2 जून 2014

चाहे कहीं भी तुम रहो; तुम को न भूल पाएंगे - ब्लॉग बुलेटिन

प्रिय ब्लॉगर मित्रों,
प्रणाम |

रणबीर राज पृथ्वीराज कपूर (१४ दिसम्बर १९२४ - २ जून १९८८ )
 
"चाहे कहीं भी तुम रहो ... तुम को न भूल पाएंगे ... " 
 
मास्टर शौमैन राज कपूर साहब की २६ वीं पुण्यतिथि पर पूरी ब्लॉग बुलेटिन टीम और पूरे हिन्दी ब्लॉग जगत की ओर से हम उनको शत शत नमन करते है ! 
सादर आपका
=============================

बिखरे लम्हे ( १ )

निवेदिता श्रीवास्तव at झरोख़ा 

कितने पास, कितने दूर !

गिरिजा कुलश्रेष्ठ at Yeh Mera Jahaan 
=============================
अब आज्ञा दीजिये ...
 
जय हिन्द !!!   

11 टिप्पणियाँ:

Digamber Naswa ने कहा…

शो मैन को शत शत नमन ...
आभार मुझे शामिल करने का ...

parmeshwari choudhary ने कहा…

राज कपूर साहब को मेरी श्रद्धांजलि . आज बुलेटिन में यात्रानामा शामिल करने के लिए बहुत धन्यवाद।

Asha Saxena ने कहा…

उम्दा लिंक्स

निवेदिता श्रीवास्तव ने कहा…

अच्छे पठनीय सूत्र चयनित किये हैं आपने ,पढ़ते है बारी - बारी ..... आभार !

jyoti khare ने कहा…

राजकपूर को नमन ---
बढ़िया पठनीय सूत्र संजोय हैं
बधाई और बधाई -----

आग्रह है---- जेठ मास में--------

pratibha sowaty ने कहा…

Thnx sr

mahendra mishra ने कहा…

उम्दा लिंक मिले बढ़िया चर्चा बधाई

गिरिजा कुलश्रेष्ठ ने कहा…

लगभग सभी लिंक्स देखलीं । अच्छा चयन है । मेरी रचना भी यहाँ शोभा पारही है इससे अच्छी बात क्या होगी ।

गिरिजा कुलश्रेष्ठ ने कहा…

लगभग सभी लिंक्स देखलीं । अच्छा चयन है । मेरी रचना भी यहाँ शोभा पारही है इससे अच्छी बात क्या होगी ।

शिवम् मिश्रा ने कहा…

आप सब का बहुत बहुत आभार।

Dwarika Prasad Agrawal ने कहा…

Rajkapoor : the Great.

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार