Subscribe:

Ads 468x60px

गुरुवार, 19 जून 2014

.पैसा बोलता है



पैसा बहुत बड़ी चीज है
पैसा बोलता है
गाली देता है
औरंगजेब बन
दारा का सर कलम कर
थाली में सजाता है
कौन टूटा
कितने टुकड़े हुए
गुरुर में पैसे के
इसे सोचने की फुर्सत ....
नहीं नहीं - ज़रूरत कहाँ है !

रोटी बनाना कौन सी बड़ी बात है
रोटी खरीदनेवाला शहंशाह है .
पैसे की राजनीति में
सारे के सारे रिश्ते दाव पर लगे हैं
जीत के हर दावपेंच के खेल में
सहज खेल लोग भूल गए हैं !
...........
-'पैसे में ताकत ना सही
खरीदने की क्षमता तो है '
क्या फर्क पड़ता है
यदि पैसे से
एक दो स्वाभिमान को
न खरीदा जा सके
उस स्वाभिमान का मखौल उड़ानेवाले
तादाद में दो पैसे में मिल जाते हैं !



9 टिप्पणियाँ:

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

वाह आज के बुलेटिन में तो पैसा ही पैसा है बहुत खूब ।

vibha rani Shrivastava ने कहा…

शुभ प्रभात
आपको और शिवम भाई को धन्यवाद कहना भी था .....
ऋणी हूँ ...

vandana gupta ने कहा…

khoobsoorat link sanyojan ........aabhar

Rajput ने कहा…

बहुत लाजवाब

आशीष भाई ने कहा…

बढ़िया प्रस्तुति व लिंक्स , बुलेटिन को धन्यवाद !
I.A.S.I.H - ( हिंदी में समस्त प्रकार की जानकारियाँ )

वाणी गीत ने कहा…

कविता झन्नाट है ! पैसे की जगह पैसा ही बोलता है आजकल , व्यवहार और रिश्ते भी अपनी जगह होंगे मगर !
अच्छा लगा चिंतन लिंक्स के माध्यम से !

शिवम् मिश्रा ने कहा…

"कि पैसा बोलता है ... "

आज का यही सत्य है |

SKT ने कहा…

पैसा अच्छे अच्छे बोलने वालों की बोलती भी बंद कर देता है!

कविता रावत ने कहा…

-'पैसे में ताकत ना सही
खरीदने की क्षमता तो है '
क्या फर्क पड़ता है
यदि पैसे से
एक दो स्वाभिमान को
न खरीदा जा सके
उस स्वाभिमान का मखौल उड़ानेवाले
तादाद में दो पैसे में मिल जाते हैं !
........
अंततः लोक में व्याप्त यथार्थ यही है
बहुत सुन्दर बुलेटिन प्रस्तुति ...

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार