Subscribe:

Ads 468x60px

सोमवार, 5 मई 2014

यहाँ पेशाब करना मना है....

न जाने कितनी बार ऐसा हुआ कि नजदीकी दूरियों के लिए पैदल चलते समय अपनी नाक बंद करनी पड़ी हो, भारत में फुटपाथ का मतलब ही होता है पेशाब करने का लाइसेन्स मिल जाना... नेचर कॉल का बाहना देने वालों से भी एक सवाल है कि नेचर कॉल तो महिलाओं को भी आती होगी अगर वो कंट्रोल कर सकती हैं तो पुरुष क्यूँ नहीं... कल एक विडियो देखा, मस्त लगा... सड़क किनारे बदबू-गंदगी फैलाते लोगों के साथ साथ यही सलूक सही है... लेकिन शायद सिर्फ इतना करना काफी न हो इसके लिए सरकार को भारी मात्र में पब्लिक मूत्रालय बढ़ाने होंगे, साथ ही साथ ये भी सुनिश्चित करना होगा कि पब्लिक यूरीनेशन के खिलाफ कड़ी कार्यवाही हो, आखिर ये शहर हमारा है तो सड़क किनारे यूं बदबू फैलाना कहाँ तक सही है.... और तो और मेरे घर के पास एक बहुत ही खूबसूरत सा पार्क है बहुत बड़ा और हरा भरा... हम वहाँ फ्रेश हवा लेने जाते हैं, लेकिन कई लोग ऐसे भी हैं जो दीवार से सटा कोना देखकर फ्रेश हो जाते हैं, मतलब इससे ज्यादा घृणित और क्या हो सकता है... मतलब पढ़-लिख कर भी यूं जाहिलों वाला काम करने में जाने क्या मज़ा है... फिलहाल तो ये विडियो देखिये और सोचिए अगर शहर के सभी फुटपाथ साफ सुथरे हों तो वहाँ से गुजरने में कितना आनंद आए....


आज के दिन आपके लिए लाया हूँ 20 लिंक्स, कुछ पुराने कुछ नए....  स्वप्न जगत से बाहर निकलिए और जानिए ये आदर नहीं राजनीति है, और किसी को कुछ कहना हो तो यूं नकारिए नहीं, जैसे यहाँ कहा जा रहा है... सुनो मेरे सपनों के राजकुमार...माफी चाहता हूँ लेकिन माँ की परिभाषा कोई भला कैसे लिख सकता है.... और यूं आखिरी खत लिख देना सही तो नहीं.... जीना इसी का नाम है, ना मानिए तो पढ़ लीजिये ये लाल डब्बे में पड़ी लाल चिट्ठियाँ ... अगर आपको प्रेम के निष्कर्ष पता न हो तो पढ़ सकते हैं.... अभी तो प्याज सस्ते हैं तो प्याज से मुलाक़ात करते जाइए, फिर फिसल गया वक़्त तो न कहिएगा कि महंगे हो गए हैं.... पल तो यूं ही आते-जाते रहते हैं, लेकिन दर्द के स्याह प्याले कौन पिये.... एक सितारे की जीवन यात्रा पढ़िये और देखिये अभी क्या बाकी है.... क्यूंकि गहनता ही दुख का मूल कारण है, इसलिए खुद को संभाल लो और संभाल जाओ आज... शायद कोई समझा न सके लेकिन कीवी के फायदे अनेक हैं...चलते चलते पुरुष ब्लॉगर कृपया अलग लाइन में आयें...

19 टिप्पणियाँ:

ऋता शेखर मधु ने कहा…

बढ़िया बुलेटिन और विडियो !!

Asha Saxena ने कहा…

बढ़िया बुलेटीन |मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार |

संजय भास्‍कर ने कहा…

बढ़िया बुलेटीन मेरे प्रयास को भी स्थान देने के लिये बहुत धन्यवाद।

aprna tripathi ने कहा…

shekhar ji , thanks to add my post.
and aapne jis tarah se post k titles ko piroya hai, sach maza aa gaya..

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

बहुत सुंदर बुलेटिन । बस पुरुष ब्लॉगर कृपया अलग लाइन में आयें... को क्लिक करने पर अपने ब्लाग का डैशबोर्ड खुल रहा है ?

Shekhar Suman ने कहा…

सुशील जी, ध्यान दिलाने के लिए धन्यवाद.... गलती सुधार ली गयी है....

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

किस्मत ही खराब हो तो कोई क्या करे :(
अब
Danger: Malware Ahead!
Google Chrome has blocked access to this page on kajalkumarcartoons.blogspot.in.
Content from hindini.com, a known malware distributor, has been inserted into this web page. Visiting this page now is very likely to infect your computer with malware.
Malware is malicious software that causes things like identity theft, financial loss, and permanent file deletion. Learn more

आ रहा है काजल जी को बता दीजियेगा ।

आशीष भाई ने कहा…

बढ़िया सूत्रीय बुलेटिन , शेखर भाई व बुलेटिन को धन्यवाद !
Information and solutions in Hindi ( हिंदी में समस्त प्रकार की जानकारियाँ )

Shekhar Suman ने कहा…

सुशील जी,

उन तक खबर पहुंचा दी है... धन्यवाद....

शिवम् मिश्रा ने कहा…

जोशी जी आप जैसे जागरूक पाठक किसी भी ब्लॉग के लिए उसकी पूंजी है ... आभार बंधु | स्नेह बनाए रखिएगा |

कृपया एक बार उस लिंक को किसी और ब्राउज़र मे खोल कर देखें ... मैंने फ़ायरफ़ॉक्स मे खोला है तो बड़े आराम से खुला है |

शिवम् मिश्रा ने कहा…

शेखर भाई आज के इस बुलेटिन के बात ही अलग है ... यह एक बेहद जरूरी मुद्दा है ... और आपने इसको बड़ी सार्थक तरीके से यहाँ उठाया है ... आभार और साधुवाद |

Priyanka Jain ने कहा…

धन्यवाद शेखर सुमन जी..!!

सादर आभार..!!

Aparna Sah ने कहा…

badhiya buletin or vidio....

निवेदिता श्रीवास्तव ने कहा…

वाह ! इसको कहते हैं अंदाज़े बयाँ ...... बहुत खूब !!!

Prasanna Badan Chaturvedi ने कहा…

उम्दा प्रस्तुति...बहुत बहुत बधाई...
नयी पोस्ट@मतदान कीजिए
नयी पोस्ट@सुनो न संगेमरमर

आशा जोगळेकर ने कहा…

आपके द्वारा उठाया मुद्दा वाकई चितनीय है और चिंतानक भी इसके लिये कडी सजा दी जानी चाहिये। और सूत्रों को कितना सुंदर पिरोया है भई वाह।

चला बिहारी ब्लॉगर बनने ने कहा…

एक बार सम्वेदना के स्वर पर इसी विषय को हमने भी उठाया था. बहुत सराहनीय कदम है यह!! साथ ही सरकार के लिये भी आँख खोलने वाला कि इसका कुछ न कुछ इंतज़ाम किया जाना चाहिये!
आभार इस बुलेटिन के लिये!!

vandana gupta ने कहा…

बढ़िया बुलेटिन

Rashmi Swaroop ने कहा…

बहुत ही कमाल का वीडियो है… बात छोटी लगती है पर बहुत ज़रूरी है।
धन्यवाद।
और मेरी रचना को स्थान देने के लिये… आभार। :)

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार