Subscribe:

Ads 468x60px

मंगलवार, 13 मई 2014

एक्सिडेंट हो गया ... रब्बा ... रब्बा - ब्लॉग बुलेटिन

प्रिय ब्लॉगर मित्रों,
प्रणाम |

एक बार की बात है ... एक आदमी और एक औरत दोनों की कारों का आपस में ज़बरदस्त एक्सीडेंट हो जाता है। किस्मत से दोनों अपनी कारों से सही सलामत बाहर निकलते हैं।

 महिला कारों की तरफ हैरत से देखकर आदमी से बोलती है, "देखो हमारी कारों की क्या हालत हो गई है और हम दोनों को कुछ नहीं हुआ। लगता है ऊपर वाला हमें संकेत दे रहा है कि हम दोनों को दोस्त बन जाना चाहिए और एक दूसरे को दोष देने में नहीं उलझना चाहिए।"

 आदमी कहता है, "हाँ मैं बिलकुल सहमत हूँ।"

 महिला अपनी कार से सड़क पर लुढक कर आई दो बोतलों की तरफ इशारा करके बोली, "देखो ये मेरी स्कॉच की बोतलें भी टूटने से बच गई। ये भी उपरवाले का ही संकेत हो सकता है कि हमें इन्हें खोलकर इसी वक्त सेलिब्रेट करना चाहिए।"
 
यह कहकर उसने अपनी गाड़ी की पिछली सीट से गिलास निकालकर उस आदमी को थमा दिया जो रज़ामंदी में मुंडी हिलाता हुआ अपने आप को आराम देने के लिए झटपट एक बोतल खाली कर गया। उसकी बोतल खाली हुई ही थी कि महिला ने एक और बोतल खोल कर झट से उसके हाथ में रख दी।

 आदमी ने पूछा, "क्या हुआ तुमने तो एक घूँट भी नहीं लिया। किसका इंतज़ार कर रही हो?"

 महिला ने जवाब दिया, "हाँ , पुलिस का ।"

सादर आपका 
========================

सीमा

अर्यमन चेतस पाण्डेय at उन्मेष …

सच्ची-झूठी ...

उदय - uday at कडुवा सच ...

बनाना चाहो तो

Dr.NISHA MAHARANA at Tere bin

बड़े लोग

SKT at Tyagi Uwaach 

माँ : तुझे सलाम ! (1)

रेखा श्रीवास्तव at मेरा सरोकार

उक्ति - 47

Vikesh Badola at उक्तियां

महताब बाग → मुगलकालीन खूबसूरत बाग (कुछ पल आगरा से ......7)


ओ इंसानियत के दुश्मनों


मोतियाबिन्द ....

Dr (Miss) Sharad Singh at Sharad Singh

क्या लिखूँ .

हिमाँशु अग्रवाल at ANTARDWAND...

बहु, कब तक बिस्तर पर मुंह फ़ुलाये पडी रहोगी?

ताऊ रामपुरिया at ताऊ डाट इन
========================
अब आज्ञा दीजिये ...

जय हिन्द !!!

12 टिप्पणियाँ:

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

हा हा समझदार महिला थी । बहुत सुंदर सूत्रो के साथ सुंदर बुलेटिन :)

चला बिहारी ब्लॉगर बनने ने कहा…

भगवान बचाये!! मेरी सहानुभूति उस बेचारे के साथ!! :)

SKT ने कहा…

त्यागी उवाच को जगह देने और बढ़िया चिट्ठे पढ़वाने के लिए आभार!

SKT ने कहा…

त्यागी उवाच को जगह देने और बढ़िया चिट्ठे पढ़वाने के लिए आभार!

आशीष भाई ने कहा…

बढ़िया लिंक्स व प्रस्तुति , शिवम भाई व बुलेटिन को धन्यवाद !
I.A.S.I.H - ब्लॉग ( हिंदी में समस्त प्रकार की जानकारियाँ )

vandana gupta ने कहा…

बहुत सुन्दर बुलेटिन

आशा जोगळेकर ने कहा…

सुंदर लघुकथा और बढिया बुलेटिन।

उदय - uday ने कहा…

bahut sundar ... jay ho ...

Dr (Miss) Sharad Singh ने कहा…

मेरी कविता को ब्लॉग बुलेटिन से लिंक करने हेतु हार्दिक आभार शिवम् मिश्रा जी ...

शिवम् मिश्रा ने कहा…

आप सब का बहुत बहुत आभार |

Satish Saxena ने कहा…

जन्मदिन पर मंगलकामनाएं शिवम् !

अर्यमन चेतस पाण्डेय ने कहा…

maine aaj dekha...shukriya sthaan dene ke liye.. :)

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार