Subscribe:

Ads 468x60px

बुधवार, 23 अप्रैल 2014

सपनों की दस्तक के नाम लिंक्स पढ़ें



कभी अकेले में तुम्हारे चेहरे पर भी मुस्कान उतरी होगी 
बेवजह खिलखिला कर चौंककर देखा होगा 
किसी ने देखा तो नहीं !
आँखों में शब्दों का काजल लग गया होगा 
कानों में किसी की आवाज मिश्री सी घुलने लगी होगी 
कई सपने दस्तक दे गए होंगे  … 
कितना कुछ सिर्फ तुम्हारा रहा होगा !

आज उस मुस्कान,उस मिश्री सी आवाज,सपनों की दस्तक के नाम लिंक्स पढ़ें 

15 टिप्पणियाँ:

आशीष भाई ने कहा…

अच्छी प्रस्तुति व अच्छे लिंक्स , रश्मि जी व बुलेटिन को धन्यवाद !
नवीन प्रकाशन - घरेलू उपचार ( नुस्खे ) - भाग - ८
~ ज़िन्दगी मेरे साथ - बोलो बिंदास ! ~ ( एक ऐसा ब्लॉग -जो जिंदगी से जुड़ी हर समस्या का समाधान बताता है )

Mukesh Kumar Sinha ने कहा…

अच्छे लिंक्स !!

richa shukla ने कहा…

great links .. its useful..
http://prathamprayaas.blogspot.in.blogspot.com/-सफलता के मूल मन्त्र

Anju (Anu) Chaudhary ने कहा…

बेहतरीन लिंक्स

कविता रावत ने कहा…

बहुत सुन्दर बुलेटिन प्रस्तुति!

उदय - uday ने कहा…

jay ho ...

शारदा अरोरा ने कहा…

Thankyou Rashmi ji...

Digamber Naswa ने कहा…

खूबसूरत लिंक ... शुक्रिया मेरी रचना को शामिल करने का ...

Digamber Naswa ने कहा…

अच्छे सूत्र .. शुक्रिया मुझे शामिल करने का ...

सदा ने कहा…

बिल्‍कुल सच .... बेहतरीन लिंक्‍स एवं प्रस्‍तुति
सादर

शिवम् मिश्रा ने कहा…

बेहद उम्दा लिंकों से सजी है आज की बुलेटिन ... जय हो दीदी |

रश्मि शर्मा ने कहा…

बहुत अच्‍छी प्रस्‍तुति‍...सुंदर लिंक्‍स

Dr.NISHA MAHARANA ने कहा…

bahut sundar links .....

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

बहुत सुंदर बुलेटिन सुंदर सूत्रों के साथ :)

Tushar Raj Rastogi ने कहा…

खूब भालो बुलेटिन - सुन्दर कड़ियाँ - जय हो - मंगलमय हो

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार