Subscribe:

Ads 468x60px

शनिवार, 19 अप्रैल 2014

वोट और ब्लॉग बुलेटिन

सभी ब्लॉगर मित्रों को सादर नमस्कार।।


भारत में इस वक़्त आम चुनाव चल रहे। लोग वोट भी कर रहे और पहले से भी ज्यादा अपना कीमती वोट देकर पिछले कई चुनावों के वोटिंग रिकॉर्ड को तोड़ रहे। लेकिन फिर भी देश के कुछ ऐसे नागरिक है जो अपने वोट की कीमत को नहीं समझते है।

मुरादाबाद में वोटिंग के एक दिन  मेरी बात एक सज्जन हुई। मैंने उनसे पूछा - " इस बार वोट दिया क्या ?? "
उन सज्जन का जवाब ऐसा था कि जिसे सुनकर मैं इस सोच में पड़ गया कि क्या वाकई ये इस देश का नागरिक है ?

उनका जवाब था - " वोट देने का क्या फायदा ? वोट देने से हम कौन - सा देश के नेता या प्रधानमन्त्री बन जाएंगे। अगर वोट देने की कुछ कीमत मिले तो आदमी वोट दे भी !! "

उन सज्जन का ये प्रत्युत्तर सुनकर मैं एकदम निःशब्द हो गया। मैं मन ही मन ये मंथन करने लगा कि क्या हमारी देश जनता ऐसी ही सोच रखती है ? या फिर ये केवल उन जैसे सज्जनों की बीमार मानसिकता है ?

मैंने भी अपने जीवन में पहली बार इस चुनाव में वोट दिया। लेकिन अधेड़ उम्र के उन सज्जन का ये प्रत्युत्तर 19 वर्षीय नवयुवक यानि मुझपर काफी चोट कर गया।

सोचा क्यों ना एक लेख के माध्यम से अपने अंतर्जाल के मित्रों तक अपनी बात पहुँचायी जाएँ।

लेकिन आप लोग उन सज्जन की तरह अपने वोट की गलत कीमत कभी मत लगाइएगा। क्योंकि आपका एक वोट देश को बेहतर बना सकता है और देश का भविष्य सुरक्षित हाथों में पहुँचा सकता है। इसीलिए वोट ज़रूर करें। जय हिन्द। जय भारत।।  

सादर 
हर्षवर्धन श्रीवास्तव


अब चलते हैं आज कि बुलेटिन की ओर …… 

=================================================
















==============================================

आज कि बुलेटिन में बस इतना ही कल फिर मिलेंगे। शुभरात्रि।।

8 टिप्पणियाँ:

aprna tripathi ने कहा…

Harsh, thanks to link my post at your bulletin. Really your work is appreciable.
I wish this year people more and more involve in voting.

आशीष भाई ने कहा…

बेहतरीन बुलेटिन व लिंक्स , हर्ष भाई व बुलेटिन को धन्यवाद !
नवीन प्रकाशन - जिंदगी हँसने गाने के लिए है पल - दो पल !
I.A.S.I.H ब्लॉग ( हिंदी में समस्त प्रकार की जानकारियाँ )

sadhana vaid ने कहा…

सार्थक एवं पठनीय सूत्रों से सजा बुलेटिन ! 'इन्द्रधनुष के रंग' को भी सम्मिलित किया आभारी हूँ !

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

सुंदर सूत्र सुंदर बुलेटिन हर्ष । 'उलूक' का सूत्र 'गजब की बात है वहाँ पर तक हो रही होती है' शामिल किया आभार ।

चला बिहारी ब्लॉगर बनने ने कहा…

हर्ष जी ने बड़ी सामयिक प्रस्तुति के साथ जनता को उनके सबसे महत्वपूर्ण अधिकार की ओर इंगित किया है!! सुन्दर कड़ियाँ..!!

lokendra singh ने कहा…

हर्षवर्धन जी बड़ी समसामयिक और महत्व के विषय पर आपने ब्लॉग बुलेटिन तैयार की है.... वोट जरूरी है देश हित में... आखिर हम अपनी सरकार नहीं चुनेंगे तो कौन चुनेगा...

शिवम् मिश्रा ने कहा…

जय हो हर्ष बाबू ... जय हो ... बेहद सार्थक संदेश दिया बुलेटिन के माध्यम से ... आप जैसे युवाओं पर ही अब ज़िम्मेदारी आ गई है कि मतदान के माध्यम से मिली शक्ति को जनता अपने अधिकार के रूप मे समझे और उस का पूरा लाभ उठाए |

इस सार्थक पोस्ट के लिए साधुवाद |

गगन शर्मा, कुछ अलग सा ने कहा…

हर्ष जी, जब आम आदमी देखता है कि उसी के वोट का सहारा लेकर कोई अपनी पीढ़ियों को तारने में लग जाता है तो आक्रोश वश वह भी अपने इस अधिकार से विमुख हो जाता है और यही वह भूल है जो सामने वाले को सजा दिलाने से बचा लेती है।

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार