Subscribe:

Ads 468x60px

रविवार, 2 मार्च 2014

ब्लॉग-बुलेटिन - आधा फागुन आधा मार्च


एक्के नाम को दू तरह से कहने में केतना फरक पड़ता है. कोनो अदमी को गदहा कह दीजिये त गुसिया जाएगा, लेकिन ओही अदमिया को बैसाखनन्दन कहिये त हो सकता है कि ऊ अपना कॉलर चढाने लगे. नाम-नाम में केतना अंतर होता है. फागुन कह देने से मन का ओही हाल होता है जो प्रियंका चोपड़ा को देखकर अर्जुन अऊर रनबीर का हुआ था माने

तूने मारी एंट्रियाँ/तो दिल में बजी घण्टियाँ रे /टन्न्न्न!!!

असल में फागुन के हवा में मदहोस कर देने वाला भांग मिला होता है. जो पिया ऊ त नाचता ही है, जो नहीं पिया ऊ भी झूमने लगता है. एही नहीं जिसके पिया साथ हों ऊ त फागुन में बौराइये जाती है, जिसके पिया साथ नहीं हो उसका हाल का कहें. मुहल्ला भर का छोरा सब भउजी कहकर छेड़ता रह्ता है. हमरे बिहार-ऊपी में त मसहूर है कि फागुन में बुढवा देवर लागे!! जाड़ा खतम अऊर गरमी दरवाजा खटखटाने लगता है. बीच-बीच में बरखा का फुहार, असल में माघ महीना में बसंत-पंचमी के बादे से सुरू हो जाता है –  

एक, दू, तीन... तेरा करूँ दिन गिन गिन के इंतजार, आजा पिया आई बहार!

तनी बरेक लगाइये... एही फागुन को हम मार्च कहें त आप लोग का रिऐक्सन होगा?? मार्च माने बच्चा लोग का परिच्छा, गार्जियन को ऐनुअल फीस देने का फिकिर, बित्त-बरिस खतम होने के पहिले टैक्स का इंतजाम, का मालूम पूरा पगार मिलेगा कि नहीं ई चिंता, इनभेस्टमेण्ट पूरा हो गया कि कहीं बकाया रह गया, सब देखना. एतने में चैन कहाँ. ऑफिस में रोज सामने चार्ट पसारकर देखना पड़ता है कि कौन टारगेट केतना से छूट रहा है. ईहो डर बना रहता है कि गलती से टारगेट पहिले पूरा हो गया त कहीं ऊ लोग टार्गेट बढ़ा न दे. मोबाइल अऊर टेलिफोन का घण्टी गब्बर सिंघ के आने के समय बजने वाला बैकग्राउण्ड म्यूजिक काफिक लगता है. अऊर फोन उठाने पर उधर से आवाज़ आता – कितने टारगेट हुए!

कुल मिलाकर फागुन का भांग में इमली का चटनी वाला काम. केतना बार त नींद में भी लगता है कि ठाकुर बलदेओ सिंघ हमको गब्बर के जइसा दबोचे हुए है अऊर बोल रहे हैं – 

 ये मार्च नहीं, फाँसी का फन्दा है!!

एही सब के बीच में राजनीति भी गरमाया हुआ है. त सुनिये राजनीति में सत्ता के खींचतान पर हमरा एगो तुकबन्दी अऊर मजा लीजिये फागुन, मार्च और नया पोस्ट सब का:

अबके किसके हाथ लगेगी, मचा हुआ था शोर,
लिये रिझाने कमल हाथ में, और पंजे का जोर,
झाड़ू लेकर दौड़ा कोई, बोले तोर न मोर,
खड़ी बसंती एक कोने में ताके सबकी ओर,
जोतखी बाबा अब तो तुम्ही किस्मत बाँचो,
दीठ गड़ाए इन कुकुरन की नीयत जाँचो,
हमें रिझाने मर्द ये कैसे बने हैं ‘माचो’, (Macho Man)
बसंती इन कुत्तों के सामने मत नाचो!

त अब अनुमति दीजिये. आपलोग आनन्द लीजिये!!












13 टिप्पणियाँ:

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

हमहूँ को उल्लू कह दीजिये आशीर्वाद पाईयेगा :) जीते रहियेगा ब्लाग में हजार बरस । सुंदर हेमा मालिनी बुलेटिन :)

गिरिजा कुलश्रेष्ठ ने कहा…

फागुनी रंग में रँगा हुआ यह बुलेटिन आपके उत्साह से भरापूरा है । चयनित सुन्दर रचनाओं में मेरा आलेख भी है ,देखकर अच्छा लगा ।

राजीव कुमार झा ने कहा…

फगुआ के रंग में रंगा लाजबाब बुलेटिन.

प्रतिभा सक्सेना ने कहा…

आधा फागुन आधा मार्च- जैसे अाधे भारतीय और अधकचरी अँगरेजियत धारे हमलोग !
बहुरंगी लिंक्स पढ़ने को मिलीं -आपका आभार .नचारी शामििल करने के लिए कृतज्ञ हूँ .

parmeshwari choudhary ने कहा…

बहुत ही बढ़िया ,फेस बुक पर लगा दिए हैं। तनिक ये भी देख लीजिये -राजनीति के रंग http://chaltechalate.blogspot.com/2014/03/blog-post.html

सञ्जय झा ने कहा…

ek......khoob jogar diye hai.......chhak ke 'jugali' karte hain...........

pranam.

रश्मि प्रभा... ने कहा…

सलिल भाई - फागुनी रंग तो धिनक धिनक चढ़ा है :)

शिवम् मिश्रा ने कहा…

जय हो सलिल दादा ... जय हो | खूब रंग जमाये ... जय हो |

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

मार्च का चार्ज है, शेष डिस्चार्ज है।

vibha rani Shrivastava ने कहा…

:)

Aparna Sah ने कहा…

yek sans me padh jane layak faguni khabar diyen...chutili chutki ke sath filmi rang bhi achha laga.....

Tushar Raj Rastogi ने कहा…

चटपटी बुलेटिन - जय हो दादा

mridula pradhan ने कहा…

आधा फागुन -आधा मार्च ..लगता ही नहीं कि एक ही है..सुन्दर और अलग सोच..मानना पड़ेगा..

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार