Subscribe:

Ads 468x60px

शुक्रवार, 21 मार्च 2014

विश्व वानिकी दिवस, खुशवंत सिंह और ब्लॉग बुलेटिन

सभी चिट्ठाकार मित्रों को सादर नमन।।


आज विश्व वानिकी दिवस है। वानिकी दिवस प्रत्येक वर्ष 21 मार्च को मनाया जाता है। विश्व वानिकी दिवस पहली बार वर्ष 1971 ई. में इस उद्देश्य से मनाया गया था कि दुनिया के तमाम देश अपनी मातृभूमि की मिट्टी और वन - सम्पदा का महत्व समझे तथा अपने - अपने देश के वनों और जंगलों का संरक्षण करें। अगर हम अपने देश की बात करे तो भारत की 22.7 % भूमि पर ही वनों और जंगलों का अस्तित्व रह गया। लेकिन बढ़ती जनसंख्या, प्रदूषण और लकड़ियों की बढ़ती मांग के कारण ये जंगल भी जल्दी ही विलुप्ति के कगार पर आ जाएँगे। इसीलिए हमें ईश्वर की दी गई अमूल निधि यानि हमारे जंगलों को बचाना होगा। पृथ्वी पर इस हरे सोने के अस्तित्व के लिए हमें अपने आसपास पेड़ - पौधे अवश्य लगाने चाहिए। जय हिन्द। जय भारत।।

खुशवंत सिंह 

कल मशहूर पत्रकार, स्तम्भकार और लेखक खुशवंत सिंह जी का निधन हो गया। खुशवंत जी का जन्म 2 फरवरी, 1915 ई. को हदाली ( अब पाकिस्तान में ) में हुआ था। खुशवंत जी की प्रसिद्ध अंग्रेजी कृतियाँ है :- "ट्रेन टू पाकिस्तान", "आई शैल नॉट हियर द नाइटिंगल", "देल्ही", "ए हिस्ट्री ऑफ द सिख्स", "द सनसेट क्लब", "द लैसंस ऑफ माई लाइफ" आदि। वर्ष 1984 ई. में उन्होंने "ऑपरेशन ब्लू स्टार" के विरोध में "पदम् भूषण" सम्मान लौटा दिया था। आज हम सब खुशवंत सिंह जी को मौन श्रद्धांजलि अर्पित करते है सादर।।


अब चलते हैं आज कि बुलेटिन की ओर ……… 














आज कि बुलेटिन में बस इतना ही कल फिर मिलेंगे।।

8 टिप्पणियाँ:

आशीष भाई ने कहा…

बढ़िया बुलेटिन व सूत्र संकलन , हर्षवर्धन भाई धन्यवाद
ⓘⓐⓢⓘⓗ ( हिन्दी जानकारियों का ब्लॉग )

Asha Saxena ने कहा…

खुशवंत जी को नमन और श्रद्धांजलि
मेरी रचना शामिल करने के लिए धन्यवाद हर्ष जी |

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

खुशवंत जी को श्रद्धाँजलि !

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

सुन्दर, रोचक व पठनीय सूत्र।

राजीव कुमार झा ने कहा…

बहुत सुंदर बुलेटिन.मेरे पोस्ट को शामिल करने के लिए आभार.
खुशवंत जी को श्रद्धांजलि.उनके कॉलम बहुत रोचक होते थे.

Khushdeep Sehgal ने कहा…

अच्छे लिंक्स ढूंढने की आपकी ये साधना हर्षित करने वाली है...मेरी पोस्ट को शामिल करने के लिए आभार...

जय हिंद...

Prabhat Ranjan ने कहा…

आपका बहुत बहुत आभार जानकी पुल

Tushar Raj Rastogi ने कहा…

अच्छा बुलेटिन खुशवंत सिंह जी को श्रद्धांजलि - जय हो

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार