Subscribe:

Ads 468x60px

बुधवार, 22 जनवरी 2014

सीमान्त गांधी और ब्लॉग बुलेटिन

सभी ब्लॉगर मित्रों को सादर नमस्कार।।

इस 26 जनवरी को हमारा राष्ट्र अपने गणतान्त्रिक देश होने के 64 वर्ष पूर्ण कर लेगा। इसी बीच हमने 20 जनवरी को सीमान्त गांधी की 26 वीं पुण्यतिथि मनाई और आने वाली 23 जनवरी को हम नेताजी सुभाषचन्द्र बोस जी की 117 वीं जयन्ती मनाएँगे। इस मौके पर मैं आपके समक्ष सीमान्त गांधी जी के जीवन की एक मर्मस्पर्शी सच्ची घटना प्रस्तुत कर रहा हूँ, आशा है कि यह आपको ज़रूर पसंद आएगी।। सादर।।


भारतीय पत्रकारों का एक समूह सन 1969 ई. में जब खान अब्दुल गफ्फार खान (सीमान्त गांधी (फ्रंटियर गांधी), बादशाह खान) से काबुल (अफगानिस्तान) मिला, तब उनसे पूछा गया - "आजादी किसे मिली ?"

बादशाह खान का क्या लाजवाब जवाब था - "आजादी!! आजादी किसे मिली? हिन्दुस्तान के लोगों को और पंजाब के मुसलमानों को, पठान और दूसरे लोगों को तो सिर्फ गुलामी ही मिली।"

खान अब्दुल गफ्फार खान को बराबर यह शिकायत रही कि भारत का विभाजन स्वीकार कर पंडित जवाहर लाल नेहरू और कांग्रेस के नेताओं ने पठानों और सीमान्त प्रदेश के अन्य बाशिन्दों को पंजाबी मुसलमानों के रहमोकरम पर छोड़ दिया।

विभाजन के काले अध्याय को याद करते हुए बादशाह खान ने कहा था कि - "कांग्रेस कार्य समिति की जिस बैठक में विभाजन स्वीकार किया गया, उसके पहले उन्हें यह अहसास हो गया था कि कांग्रेस विभाजन स्वीकार करेगी। बैठक से पहले उन्होंने जवाहर लाल जी से बात करनी चाही, तो "जवाहर लाल मुँह फेरकर चुपचाप बैठक में चले गए और मैं समझ गया कि हमारा तो बेड़ा गर्क हो गया" बैठक के बारे में बताते बादशाह खान कहते थे - "बैठक में विभाजन का विरोध करने वाले केवल दो ही शख्स थे - महात्मा गांधी और पुरुषोत्तम दास टण्डन। जवाहर लाल नेहरू, सरदार वल्ल्भ भाई पटेल, मौलाना अबुल कलाम आजाद और अन्य सभी नेता बँटवारे के पक्ष में थे।" आगे यहाँ पढ़े …… 

सादर
========


अब चलते हैं आज कि बुलेटिन की ओर  ………























कल फिर मिलेंगे। तब तक आप ये रोचक कड़ियाँ पढ़िए। सादर।।

13 टिप्पणियाँ:

Mukesh Kumar Sinha ने कहा…

बड़े सारे लिंक्स :) वाह !!
सीमांत गांधी और नेताजी सुभाष बोस को नमन !!

Khushdeep Sehgal ने कहा…

एक से बढ़िया एक लिंक, मेरी पोस्ट को स्थान देने के लिए शुक्रिया...

जय हिंद...

जितेंद्र सिंह राना ने कहा…

बहुत अच्छी जानकारी बहुत ज्ञानप्रद आपका ब्लॉग है
आप सभी लोगो का मैं अपने ब्लॉग पर स्वागत करता हूँ मैंने भी एक ब्लॉग बनाया है मैं चाहता हूँ आप सभी मेरा ब्लॉग पर एक बार आकर सुझाव अवश्य दें
राना2हिन्दी टेक तकनीक हिन्दी मे कम्प्युटर के निशुल्क शिक्षा हेतु पधारें

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

सुंदर बुलेटिन । उल्लूक का पन्ना भी जुड़ा दिखा "होने होने तक ऐसा हुआ जैसा होता नहीं मौसम आम आदमी जैसा हो गया" को शामिल करने पर आभार !

पी.सी.गोदियाल "परचेत" ने कहा…

आभार !

रश्मि प्रभा... ने कहा…

बहुत ही बढ़िया लिखा है हर्षवर्धन - लिंक्स बेहतरीन

yashoda agrawal ने कहा…

आभार
अच्छी रचनाओं का अद्वितीय संकलन
सादर....

Asha Saxena ने कहा…

बढ़िया बुलेटिन |विविधता लिए लिंक्स |
मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार |
आशा

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

सुन्दर, रोचक व पठनीय सूत्र, आभार।

शिवम् मिश्रा ने कहा…

इस शानदार और ज्ञानप्रद बुलेटिन के लिए बहुत बहुत आभार हर्ष बाबू |

Maheshwari kaneri ने कहा…

सुंदर बुलेटिन ......मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार हर्षवर्धन

vandana gupta ने कहा…

सुंदर बुलेटिन

चला बिहारी ब्लॉगर बनने ने कहा…

इतिहास के पन्नों से एक कड़वा सच... बहुत सारे लिंक्स!! आज ही लौटा हूँ, तो बस धीरे धीरे देखता हूँ सब!!

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार