Subscribe:

Ads 468x60px

मंगलवार, 8 अक्तूबर 2013

गुनाह किसे कहते हैं ?




बता दिया जाये 
कि गुनाह किसे कहते हैं 
तो तुम गुनाह करना बंद कर दोगे ?
या नए तर्क लिए खुद को बेगुनाह ही कहोगे ?


सोचते हुए इन्हें पढ़िए - सोच की परिधि बढती जाएगी =

9 टिप्पणियाँ:

सुज्ञ ने कहा…

शानदार बुलेटिन!!
हमारी रचना को सम्मलित करने के लिए बहुत बहुत आभार!!!

Sushil Kumar Joshi ने कहा…

बहुत सुदर संकलन !

जो वो करता है वो होता है गुनाह
मैं करता हूं जब कभी मांफी भी
मांग लेता हूं साथ में !

धीरेन्द्र सिंह भदौरिया ने कहा…

सुंदर पठनीय सूत्र ...!

RECENT POST : अपनी राम कहानी में.

रश्मि शर्मा ने कहा…

शानदार बुलेटि‍न..मेरी रचना शामि‍ल करने के लि‍ए आभार...

कविता रावत ने कहा…

बहुत सुन्दर बुलेटिन प्रस्तुति में मेरी पोस्ट शामिल करने हेतु आभार!

निहार रंजन ने कहा…

पोस्ट को शामिल करने के लिए धन्यवाद.

शिवम् मिश्रा ने कहा…

बहुत छाँट छाँट कर नगीने लाई है आप ... आभार दीदी !

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

पठनीय बुलेटिन

तुषार राज रस्तोगी ने कहा…

बहुत खूब बुलेटिन | जय हो

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार