Subscribe:

Ads 468x60px

गुरुवार, 19 सितंबर 2013

चुप रहनें के फ़ायदे... ब्लॉग बुलेटिन

सभी मित्रों को देव बाबा की राम राम...

----------------------------------------

एक औरत डॉक्टर के पास गयी उसे उसके पति ने पीटा था जिस कारण उसकी आंखें काली और नीली हो गयी थी!
डॉक्टर ने उसे पूछा क्या हुआ?
औरत ने कहा डॉक्टर साहब मुझे समझ नहीं आ रहा मैं क्या करूं? मेरे पति रोज शराब पीकर आकर आते है और मुझे बहुत पीटते है!
डॉक्टर ने कहा मेरे पास इसके लिए एक बहुत बढि़या इलाज है, जब तुम्हारे पति शराब पीकर घर लौटे तो गरम पानी करना उसमें थोड़ा सा नमक डालना और गरारे करना शुरू कर देना और करते ही रहना, लगातार करते रहना!
दो हफ्ते बाद वो महिला डॉक्टर के पास आयी तो बिलकुल तंदुरुस्त और प्रसन्न लग रही थी!
महिला कहने लगी डॉक्टर साहब ये तो जबरदस्त आइडिया बताया था आपने, अब तो जब भी मेरे पति शराब पीकर घर आते है तो मैं गरारे करना शुरू कर देती हूं और वो मुझे छूते तक नहीं!

डॉक्टर- देखा, अगर मुंह को चुप रखा जाये तो कितना फायदेमंद रहता है!

----------------------------------------
 ----------------------------------------
आज का बुलेटिन..........










मन बैचैन

राष्ट्रीय साहित्य,कला और संस्कृति का सम्मान समारोह

----------------------------------------
फिर मिलेंगे ...

11 टिप्पणियाँ:

तुषार राज रस्तोगी ने कहा…

जय हो गुरुदेव | बढ़िया बुलेटिन :) | शानदार लिनक्स | हर हर महादेव

पूरण खण्डेलवाल ने कहा…

सुन्दर सूत्र संकलन !!

Randhir Singh Suman ने कहा…

nice

Vivek Rastogi ने कहा…

धन्यवाद, पढ़ते हैं..

शिवम् मिश्रा ने कहा…

मान गए महाराज ... सच मे चुप रहने के बड़े बड़े लाभ होते है ... ;)

Darshan jangra ने कहा…

बेहतरीन लिनक्स , आभार



अमर शहीद मदनलाल ढींगरा जी की १३० वीं जयंती - हिंदी ब्लॉग समूह चर्चा-अंकः20



अमर शहीद मदनलाल ढींगरा जी की १३० वीं जयंती - हिंदी ब्लॉग समूह चर्चा-अंकः20

mahendra mishra ने कहा…

badhiya charcha ....

HARSHVARDHAN ने कहा…

बढ़िया बुलेटिन देव साहब।। सच में चुप रहने के कई फायदे होते हैं !! शानदार कड़ियाँ :)

@ Darshan jangra जी, कृपया बुलेटिन पर बार - बार लिंक ना छोड़ा करें। इससे बुलेटिन पढ़ने वालों को दिक्कत हो सकती। आभार।।

संजय भास्‍कर ने कहा…

बढ़िया बुलेटिन

रश्मि शर्मा ने कहा…

Badhiya ...meri rachna ko sthan dene ka shukriya

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

रोचक व पठनीय सूत्र

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार