Subscribe:

Ads 468x60px

मंगलवार, 6 अगस्त 2013

'बंगाल के निर्माता' - सुरेन्द्रनाथ बनर्जी - ब्लॉग बुलेटिन

प्रिय ब्लॉगर मित्रों ,
प्रणाम !

सुरेन्द्रनाथ बनर्जी  (जन्म- 10 नवम्बर, 1848 कलकत्ता; मृत्यु- 6 अगस्त, 1925 बैरकपुर,कलकत्ता) प्रसिद्ध स्वाधीनता सेनानी थे, जो कांग्रेस के दो बार अध्यक्ष चुने गए। उन्हें 1905 का 'बंगाल का निर्माता' भी जाता है। उन्होंने भारतीय राष्ट्रीय समिति की स्थापना की, जो प्रारंभिक दौर के भारतीय राजनीतिक संगठनों में से एक था और बाद में वह भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता बन गए।
 
जीवन परिचय
 
जन्म और परिवार
 
सुरेन्द्र नाथ बनर्जी का जन्म 10 नवम्बर 1848 को बंगाल के कोलकाता शहर में, एक बंगाली ब्राह्मण परिवार में हुआ था। सुरेन्द्रनाथ बनर्जी के पिता का नाम डॉ. दुर्गा चरण बैनर्जी था और वह अपने पिता की गहरी उदार और प्रगतिशील सोच से बहुत प्रभावित थे। सुरेन्द्रनाथ बैनर्जी ने पैरेन्टल ऐकेडेमिक इंस्टीट्यूशन और हिन्दू कॉलेज में शिक्षा प्राप्त की थी। कलकत्ता विश्वविद्यालय से स्नातक होने के बाद, उन्होंने रोमेश चन्द्र दत्त और बिहारी लाल गुप्ता के साथ भारतीय सिविल सर्विस परीक्षाओं को पूरा करने के लिए 1868 में इंग्लैंड की यात्रा की। 1868 ई. में वे स्नातक बने, वे उदारवादी विचारधारा के महत्वपूर्ण नेता थे। 1868 में उन्होंने इण्डियन सिविल सर्विसेज परीक्षा उतीर्ण की। इसके पूर्व 1867 ई. में सत्येन्द्रनाथ टैगोर आई.सी.एस. बनने वाले पहले भारतीय बन चुके थे। 1877 में सिलहट के सहायक दण्डाधिकारी के पद पर उनकी नियुक्त हुई परन्तु शीघ्र ही सरकार ने उन्हे इस पद से बर्खास्त कर दिया।
 
जातीय भेद-भाव
 
सुरेन्द्रनाथ बनर्जी ने स्नातक होने के बाद इण्डियन सिविल सर्विस (भारतीय प्रशासनिक सेवा) में प्रवेश के लिए इंग्लैण्ड में आवेदन किया। उस समय इस सेवा में सिर्फ़ एक हिन्दू था। बनर्जी को इस आधार पर शामिल नहीं किया गया कि उन्होंने अपनी आयु ग़लत बताई थी। जातीय आधार पर भेद-भाव किये जाने का आरोप लगाते हुए बनर्जी ने अपनी अपील में यह तर्क प्रस्तुत किया कि हिन्दू रीति के अनुसार उन्होंने अपनी आयु गर्भधारण के समय से जोड़ी थी, न कि जन्म के समय से और वह जीत गए। बनर्जी को सिलहट (अब बांग्लादेश) में नियुक्त किया गया, लेकिन क्रियान्वयन सम्बन्धी अनियमितताओं के आरोप में उन्हें 1874 में भारी विवाद तथा विरोध के बीच हटा दिया गया। उन्होंने तब बैरिस्टर के रूप में अपना नाम दर्ज़ कराने का प्रयास किया, किन्तु उसके लिए उन्हें अनुमति देने से इनकार कर दिया गया, क्योंकि वे इण्डियन सिविल सर्विस (भारतीय प्रशासनिक सेवा) से बर्ख़ास्त किये गये थे। उनके लिए यह एक क़रारी चोट थी और उन्होंने महसूस किया कि एक भारतीय होने के नाते उन्हें यह सब भुगतना पड़ रहा है।
 
कार्यक्षेत्र
 
इण्डियन एसोसियेशन की स्थापना

 
बैरिस्टर बनने में विफल रहने के बाद 1875 ई. में भारत लौटने पर वे प्रोफ़ेसर हो गये; पहले मेट्रोपालिटन इंस्टीट्यूट में (जो कि अब विद्यासागर कॉलेज कहलाता है) और बाद में रिपन कॉलेज (जो कि अब सुरेन्द्रनाथ कॉलेज कहलाता है) में, जिसकी स्थापना उन्होंने की थी। अध्यापक के रूप में उन्होंने अपने छात्रों को देशभक्ति और सार्वजनिक सेवा की भावना से अनुप्राणित किया। मेजिनी के जीवन और भारतीय एकता सदृश विषयों पर उनके भाषणों ने छात्रों में बहुत उत्साह पैदा किया। राजनीति में भी भाग लेते रहे और 1876 में इण्डियन एसोसिएशन की स्थापना तथा 1883 में कलकत्ता में प्रथम अखिल भारतीय राष्ट्रीय सम्मेलन आयोजित करने में प्रमुख योगदान दिया।
 
राष्ट्रीय एकता का प्रयास
 
अखिल भारतीय राष्ट्रीय सम्मेलन एक राष्ट्रीय संगठन की स्थापना की दिशा में यह पहला प्रयास था। 1885 ई. में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस (इण्डियन नेशनल कांग्रेस) की स्थापना के बाद उन्होंने अखिल भारतीय राष्ट्रीय सम्मेलन (आल इंडिया नेशनल काफ़्रेंस) का उसमें विलय कराने में प्रमुख भाग लिया और उसके बाद से उनकी गिनती कांग्रेस के प्रमुख नेताओं में होने लगी। उन्होंने भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के 1895 में पूना में हुए ग्यारहवें अधिवेशन और 1902 में अहमदाबाद में हुए अठारहवें अधिवेशन की अध्यक्षता की। उन्होंने देशव्यापी भ्रमण कर बड़ी-बड़ी सभाओं में भाषण करते हुए राष्ट्रीय एकता की आवश्यकता और देश के प्रशासन में भारतीयों को अधिक जनमत को जाग्रत करने में बहुमूल्य योगदान दिया। उन्होंने 1878 ई. के वर्नाक्यूलर प्रेस एक्ट के विरोध का नेतृत्व किया और इल्बर्ट बिल के समर्थन में प्रमुख भाग लिया। कांग्रेस के सूरत विभाजन के समय बनर्जी नरम दल के सदस्य थे। 1909 ई. के मार्ले-मिण्टों सुधार के लिए उन्होंने अंग्रेज़ी साम्राज्य के प्रति कृतज्ञता प्रकट की, किन्तु वे बंग-भंग की समाप्ति चाहते थे। 1913 ई. में उन्हें बंगाल लेजिस्लेटिव काउंसिल ओर इंपीरियल लेजिस्लेटिव काउंसिल का सदस्य चुना गया। 1919-20 ई. कें गांधी प्रणीत आंदोलन का उन्होंने समर्थन नहीं किया। 1921 ई. में अंग्रेज़ी सरकार ने उन्हें ‘सर’ की उपाधि दी। 1921-23 ई. में बंगाल सरकार में मंत्री रहे।
 
बंगाल विभाजन
 
उन्होंने कर्जन द्वारा पास किये गये कानून कलकत्ता अधिवेशन ऍक्ट, विश्वविद्यालय ऍक्ट एवं बंगाल विभाजन के विरुद्ध बंगाल एवं पूरे भारत में तीव्र आंदोलन चलाए। किन्तु बंग-विभाजन विरोधी आंदोलन में वे तोड़-फोड़ तथा असंवैधानिक तरीकों के विरुद्ध थे। बंगाल विभाजन के बारे में उन्होंने कहा ‘बंगाल का विभाजन हमारे ऊपर बम की तरह गिरा है। हमने समझा कि हमारा घोर अपमान किया गया है।’ स्वदेशी के बारे में उनका विचार था कि ‘स्वदेशी हमें दुर्भिक्ष, अन्धकार और बीमारी से बचा सकता है। स्वदेशी का व्रत लीजिए। अपने विचार, कर्म और आचरण में स्वदेशी का उपभोग करें।’ उक्त क़ानून पास हो जाने पर उन्होंने कार्पोरेशन में भाग लेने से इनकार कर दिया। उन्होंने बंगाल के विभाजन का भी घोर विरोध किया और उसके विरोध में ज़बर्दस्त आंदोलन चलाया, जिससे वे बंगाल के निर्विवाद रूप से नेता मान लिये गये। वे बंगाल के बिना ताज़ के बादशाह कहलाने लगे। बंगाल का विभाजन 1911 में रद्द कर दिया गया, जो सुरेन्द्रनाथ की एक बहुत बड़ी जीत थी। लेकिन इस समय तक देशवासियों में एक नया वर्ग पैदा हो गया था, जिसका विचार था कि भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के वैधानिक आंदोलन विफल सिद्ध हुए और भारत में स्वराज्य प्राप्ति के लिए और प्रभावपूर्ण नीति अपनाई जानी चाहिए।
 
सिद्धान्तवादी व्यक्ति
 
नया वर्ग, जो गरम दल कहलाता था, हिंतात्मक तरीक़े अपनाने से नहीं डरता था, उससे चाहे क्रान्ति ही क्यों न हो जाये। लेकिन सुरेन्द्रनाथ बनर्जी का, जिनकी शिक्षा-दीक्षा अठारहवीं शताब्दी के अंग्रेज़ साहित्य, विशेषकर बर्क के सिद्धान्तों पर हुई थी, क्रान्ति अथवा क्रान्तिकारी तरीक़ों में कोई विश्वास नहीं था और वे भारत तथा इंग्लैंड के बीच पूर्ण अलगाव की बात सोच भी नहीं सकते थे। इस प्रकार सुरेन्द्रनाथ बनर्जी को, जिन्हें कभी अंग्रेज़ प्रशासक गरम विचारों का उग्रवादी व्यक्ति मानते थे, अब स्वयं उनके देशवासी नरम दल का व्यक्तित्व मानने लगे थे। सूरत कांग्रेस (1907) के बाद वे कांग्रेस पर गरम दलवालों का क़ब्ज़ा होने से रोकने में सफल रहे थे। किन्तु इसके बाद शीघ्र ही कांग्रेस गरम दल वालों के नियंत्रण में चली गई। इसका परिणाम यह हुआ कि माण्टेग्यू चेम्सफ़ोर्ड रिपोर्ट के आधार पर जब 1919 का गवर्नमेंट ऑफ़ इंडिया एक्ट पास हुआ तो सुरेन्द्रनाथ बनर्जी ने उसे इस आधार पर स्वीकार कर लिया कि कांग्रेस अपने आरम्भिक दिनों में जो मांग कर रही थी, वह इस एक्ट से बहुत हद तक पूरी हो गई है, लेकिन स्वयं कांग्रेस ने उसे अस्वीकार कर दिया।
 
कांग्रेस से सम्बन्ध विच्छेद
 
इस प्रकार भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस से सुरेन्द्रनाथ बनर्जी का सम्बन्ध विच्छेद हो गया। उन्होंने कांग्रेस के अन्य पुराने नेताओं के साथ लिबरल फ़ेडरेशन की स्थापना की जो अधिक जन समर्थन प्राप्त नहीं कर सका। फिर भी सुरेन्द्रनाथ बनर्जी नई बंगाल लेजिस्लेटिव कौंसिल के सदस्य निर्वाचित हो गये। 1921 ई. में कलकत्ता म्युनिसिपल बिल को विधानमंडल से पास कराया, जिससे लॉर्ड कर्ज़न द्वारा बनाया गया पूर्ववर्ती क़ानून निरस्त हो गया और कलकत्ता कार्पोरेशन पर पूर्ण रूप से लोकप्रिय नियंत्रण स्थापित हो गया।
 
भारतीय राष्ट्रीयता के निर्माता
 
भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन जिसकी 1876 ई. में सुरेन्द्रनाथ बनर्जी ने शुरुआत की थी, इस समय तक बहुत विकसित हो गया था और देश के लिए क़ानून बनाने तथा देश के प्रशासन में अधिक हिस्सा दिये जाने की जिन माँगों के लिए सुरेन्द्रनाथ बनर्जी ने पचास वर्षों से भी अधिक समय तक संघर्ष किया था, उन माँगों की पूर्ति से अब देशवासी संतुष्ट नहीं थे। वे अब स्वाधीनता की माँग कर रहे थे, जो सुरेन्द्रनाथ की क्लपना से परे थी। उनकी मृत्यु जिस समय हुई उस समय उनकी गिनती देश के लोकप्रिय नेताओं में नहीं होती थी, किन्तु इसमें सन्देह नहीं कि वे आधुनिक भारतीय राष्ट्रीयता के निर्माताओं में से थे, जिसकी स्वाधीन भारत एक देन है।
 
मृत्यु
 
सुरेन्द्रनाथ बनर्जी 1920 ई. में शुरू किये गये असहयोग आंदोलन से सहमत नहीं थे। फलत: स्थानीय स्वशासन के क्षेत्र में उनकी महत्त्वपूर्ण क़ानूनी उपलब्धियों के बावजूद उन्हें पहले की भाँति देशवासियों का समर्थन नहीं मिल सका। वे 1923 के चुनाव में हार गये और तदुपरान्त 6 अगस्त, 1925 में अपनी मृत्यु पर्यन्त सार्वजनिक जीवन से प्राय: अलग रहे।   
सादर आपका 
=================

भाई ने भाई मारा रे

मन के रिसते जख्म

भारतीय शास्‍त्रीय संगीत में छत्‍तीसगढ़ी बंदिशें

अनटायटिल्ड ड्राफ्ट्स...

गुनगुनाना चाहता हूँ

सपनों के सि‍तारे टांक दूं ..

पानी के बताशे

जागो भारत के वीर सपूतो

गुलाम हूँ मैं पीढ़ियों से..

रोमांचक खेल "दो और दो पांच" में वंदना गुप्ता

दिल्ली की सडकों पर अराजकता -- पर हमें क्या !

ग़ज़ल

भ्रष्टाचार और अपराध पोषित भारत!!

बोलती कहानियाँ: मुंशी प्रेमचन्द कृत बालक

लफ्ज़ -

दोगली दुनिया

हो जाएगा नव-निर्माण हमारे मन के वृन्दावन का...!

अब छोटे व्यापारियों को भी बचाइए ?

कुछ प्रश्न -

विज्ञान प्रदर्शनी पार्थवी के स्कूल मे

BIG BOSS : आओ खेलें गाली - गाली !

=================

अब आज्ञा दीजिये ...

जय हिन्द !!!

14 टिप्पणियाँ:

Archana ने कहा…

नियमित रूप से एक अच्छा काम कर रहे हो ... स्नेहाशीष ...

expression ने कहा…

बहुत बढ़िया बुलेटिन....
वो उम्र वाला issue पढ़ कर अच्छा लगा....गर्भधारण से उम्र का हिसाब और फिर वो मुकदमा जीत जाना...बढ़िया है!!!
लिंक्स तो अच्छे हैं ही...
शुक्रिया शुक्रिया शिवम्...
सस्नेह
अनु

ZEAL ने कहा…

Many Thanks Shivam ji for providing great links.

Rewa tibrewal ने कहा…

bahut acchi bulletin....meri rachna ko shamil kiya ismay apne...bahut bahut shukriya

रश्मि शर्मा ने कहा…

बहुत सुंदर लिंक्‍स.....मेरी रचना शामि‍ल करने के लि‍ए धन्‍यवाद..

महेन्द्र श्रीवास्तव ने कहा…

बढिया लिंक्स
मुझे शामिल करने के लिए आभार

तुषार राज रस्तोगी ने कहा…

जय हो दादा ... बढ़िया बुलेटिन चिपकाये :)

manoj jaiswal ने कहा…

बहुत ही सुंदर लिंक्‍स, स्व श्री सुरेन्द्रनाथ बनर्जी जी, के बारे में विस्तार से जानकारी देने के लिए ह्रदय से आभार। मेरी रचना शामि‍ल करने के लि‍ए धन्‍यवाद शिवम् जी।

Aryaman Chetas Pandey ने कहा…

SN Banarjee ke baare mein aapne bahut sundar jaankaari di hai..meri post ko shaamil karne ke liye aabhaar!! :)

स्वप्न मञ्जूषा ने कहा…

काफी अच्छे लिंक्स मिले।
बंगाल के निर्माता सुरेन्द्र नाथ बैनर्जी के बारे में अच्छी जानकारी मिली।
स्नेह सहित धन्यवाद !

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

स्वतन्त्रता के योद्धाओं को नमन, सुन्दर सूत्र

शिवम् मिश्रा ने कहा…

आप सब का बहुत बहुत आभार !

Rekha Joshi ने कहा…

बहुत सुंदर लिंक्‍स,मेरी रचना शामि‍ल करने के लि‍ए धन्‍यवाद शिवम् जी।

Pavitra_Hyd ने कहा…

Shivam ji S.N.Banarji par achchi jankari mili, dhanyvad.meri bal kahani "pani ke batashe'shamil karane ke liye thanks.

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार