Subscribe:

Ads 468x60px

सोमवार, 12 अगस्त 2013

याई रे, याई रे, ब्लॉग बुलेटिन आई रे ...

प्रिय ब्लॉगर मित्रों,
प्रणाम !
पप्पू: मैम, May I Go to Washroom (क्या मैं शौचालय जा सकता हूँ?)।

मैडम गुस्से में, "हिंदी नहीं आती? हिंदी के पीरियड में जो भी बात करनी है हिंदी में किया करो।

पप्पू: बहनजी, पेशाब कर आएं?

मैडम: ठीक है जाओ।

दूसरे दिन अंग्रेजी की क्लास में।

पप्पू: बहनजी, पेशाब कर आएं?

मैडम गुस्से में, "अंग्रेजी में नहीं बोल सकते, जब अंग्रेजी का पीरियड हो तो हर बात अंग्रेजी में ही पूछोगे...समझे?

पप्पू: ओके मैम, May I Go to Washroom (क्या मैं शौचालय जा सकता हूँ?)?

मैडम: ओके।

पप्पू ने सीख ले ली कि अब वो किसी मैडम को शिकायत का मौक़ा नहीं देगा और तीसरे दिन संगीत की क्लास में सुसु आने पर शिक्षिका से बोला।

पप्पू गाना गाते हुए ,"याई रे, याई रे, जोर से सुसू आई रे।"

(इस पप्पू की हरकतों का किसी और पप्पू की हरकतों से मेल खाना संयोग मात्र है ... इस के पीछे कोई राजनीतिक कारण नहीं है !)
सादर आपका 
शिवम मिश्रा  
======================== 

क्यों बेच रही हो ? कबाड़ी को

बेटी को जन्म दिया तो मै तुम्हे तेज़ाब से नहला दूंगा ।

न होने की भाषा

माँ (हायकु )

वीर सपूत

धैर्य की परीक्षा - एक प्रेरक कथा

लोकतंत्र में मतदाता की जबावदेही

नेता उवाच !!!

ऑनलाइन आईडी चोरों से सावधान!

टोपी रे टोपी तेरा रंग कैसा ....

ट्विटर कहानियाँ

========================
अब आज्ञा दीजिये ...
जय हिन्द !!!

16 टिप्पणियाँ:

Randhir Singh Suman ने कहा…

nice

Neelima ने कहा…

शिवम् जी हमारे लिखे शब्दों को सम्मान देने का शुक्रिया उम्दा लिनक्स संजोये हैं आपने

ajay yadav ने कहा…

UTTAM

HARSHVARDHAN ने कहा…

रोचक और सुन्दर बुलेटिन शिवम भाई!!

नये लेख : ट्विटर पर "रिपोर्ट एब्यूज" बटन, फेसबुक से ईनाम और द्वितीय विश्वयुद्ध से जुड़े ख़ुफ़िया दस्तावेज हुए ऑनलाइन।

जन्म दिवस : किशोर कुमार

manoj jaiswal ने कहा…

बहुत अच्छी लगी पप्पू की शरारतें, सुन्दर बुलेटिन बेहद शानदार लिंक्स का सयोजन करने पर आपको बधाई शिवम् जी। मेरी पोस्ट को शामिल करने के लिए आपका आभार।

तुषार राज रस्तोगी ने कहा…

हा हा हा | भैयाजी बहुत बढ़िया बुलेटिन लगाई | अभी घर पहुंचा और आते ही बुलेटिन चेक किया | बढ़िया लिंक लगाये | जय हो :)

Asha Saxena ने कहा…

शिवम् जी मैं पहली बार इस ब्लॉग पर आई हूँ |यह ब्लॉग बहुत अच्छा लगा |मेरी रचना शामिल करने के लिए धन्यवाद और आभार |
आशा

mahendra mishra ने कहा…

बढ़िया चर्चा… समयचक्र की पोस्ट को शामिल करने के लिए हार्दिक आभार

vibha rani Shrivastava ने कहा…

(*_*)

Satish Chandra Satyarthi ने कहा…

हाहाहा.. मस्त है..

कालीपद प्रसाद ने कहा…

पप्पू की समझदारी अच्छी लगी

ताऊ रामपुरिया ने कहा…

बहुत सुंदर.

रामराम.

सारिक खान ने कहा…

First article my life.

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

रोचक सूत्र..

शिवम् मिश्रा ने कहा…

आप सब का बहुत बहुत आभार !

कवि किशोर कुमार खोरेन्द्र ने कहा…

rochak

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार