Subscribe:

Ads 468x60px

सोमवार, 19 अगस्त 2013

विश्व फ़ोटोग्राफ़ी दिवस .... 601 वीं ब्लॉग बुलेटिन

सभी चिठ्ठाकार मित्रों को मेरा प्रेमपूर्वक नमस्कार।।  

विश्व फ़ोटोग्राफ़ी दिवस प्रत्येक वर्ष 19 अगस्त को मनाया जाता है। प्रकृति ने सभी प्राणियों को जन्म से ही एक कैमरा दिया है और वो कैमरा है उसकी आँखें और अपनी इन्हीं आँखों से दिखाई देने वाले दृश्यों को कैमरे की मदद से एक चित्र के रूप में सहेजना ही फ़ोटोग्राफ़ी है। दुनिया में सर्वप्रथम 1839 में फ़्राँस के वैज्ञानिक लुईस जेकस तथा मेंडे डाग्युरे ने फ़ोटो तत्व को खोजने का दावा किया था। लेकिन ब्रिटिश वैज्ञानिक विलियम हेनरी फॉक्सटेल बोट ने नेगेटिव-पॉजीटिव प्रोसेस उनसे पहले ही ढूँढ लिया था। सन 1834 में टेल बॉट ने लाइट सेंसेटिव काग़ज़ का आविष्कार किया, जिससे खींचे चित्र को स्थायी रूप में रखने की सुविधा प्राप्त हुई। फ़्राँसीसी वैज्ञानिक आर्गो ने 7 जनवरी, 1839 को फ्रेंच अकादमी ऑफ़ साइंस के लिए एक रिपोर्ट तैयार की। फ़्राँस सरकार ने यह प्रोसेस रिपोर्ट खरीदकर उसे आम लोगों के लिए 19 अगस्त, 1939 को मुफ्त घोषित किया। यही कारण है कि 19 अगस्त को विश्व फ़ोटोग्राफ़ी दिवस मनाया जाता है।


आज विश्व फ़ोटोग्राफ़ी दिवस के अवसर पर सभी को भविष्य में सुन्दर और बेहतरीन फोटो (तस्वीरें) खींचने के लिए हार्दिक शुभकामनाएँ।।





आज हमारी पूरी टीम आपके सामने हिंदी ब्लॉगजगत के कुछ फ़ोटोग्राफ़ी ब्लॉगस प्रस्तुत कर रहे हैं!!












अब चलते हैं आज की बुलेटिन  की ओर …. 














कल फिर मिलेंगे। शुभ रात्रि।

9 टिप्पणियाँ:

देवेन्द्र पाण्डेय ने कहा…

अच्छी जानकारी।

..लिंक्स देखता हूँ। धन्यवाद।

Mukesh Kumar Sinha ने कहा…

achchhe links... achchhi jaankari

Ashok Khachar ने कहा…

अच्छी जानकारी। सुंदर लिन्क

राजीव कुमार झा ने कहा…

बहुत सुन्दर लिंक्स संजोए हैं.मेरी रचना शामिल करने के लिये आभार.

तुषार राज रस्तोगी ने कहा…

बहुत खूब बुलेटिन रहा भाई | बढ़िया कड़ियाँ | जय हो

महेन्द्र श्रीवास्तव ने कहा…

बहुत बढिया

शिवम् मिश्रा ने कहा…

बहुत बढ़िया प्रस्तुति रही बुलेटिन की इस विशेष दिन पर ... बधाइयाँ हर्ष बाबू !

दिगम्बर नासवा ने कहा…

फोटोग्राफिक चर्चा ... दिवस अनुसार ... अच्छी चर्चा ...

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

वाह, चित्रों का अपना जगत, सुन्दर सूत्र संकलन।

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार