Subscribe:

Ads 468x60px

शनिवार, 27 जुलाई 2013

हंस लो भाई थोडा.... ब्लॉग बुलेटिन

मित्रों, आज के बुलेटिन में राजनीतिक जोक्स का आनन्द लीजिए.... वैसे सब के सब कापी पेस्ट हैं.... जै हो उसकी जिसनें कापी और पेस्ट जैसी चीज़ बनाई....


---------------------------
नेताओं के बयान....


ओबामा: ओसामा मिले तो उसे फोड़ दो!
गांधी : हिंसा अच्छी बात नहीं, उसे छोड़ दो।
....
....
और अब लो....
मनमोहन: ठीक है।
---------------------------

एक भिखारी एक बोर्ड पकड़ कर बैठा था, जिस पर लिखा था- 'मुझे पैसे दान करें, नहीं तो मैं कांग्रेस को वोट कर फिर जिता दूंगा और फिर आपको भी मेरे साथ यहां बैठकर भीख मांगनी पड़ेगी। सोच लें, फैसला आपके हाथ में है!' 

---------------------------

हिट हुई 'भाग मिल्खा भाग' के बाद नई पेशकश
.
.
.
'बोल मनमोहन बोल!'

---------------------------

लो भाई एक और लो...

मनीष तिवारी ने कहा कि राहुल गांधी इस देश के सबसे प्रखर और युवा नेता हैं, देश को नई दिशा देंगे...
.
.
.
.
अरे यार, एक के बाद एक कामेडी कर रहे हो.... लेकिन इस बात के बाद तो हंसा-हंसा कर मारोगे क्या??? 
---------------------------

लीजिए मित्रों अब आपको आज के बुलेटिन की ओर ले चलें...

---------------------------












तो मित्रों आशा है आपको आज का बुलेटिन पसन्द आया होगा... कल फ़िर से मुलाकात होगी एक नये रूप के साथ..... 

जय हिन्द

9 टिप्पणियाँ:

HARSHVARDHAN ने कहा…

मजेदार बुलेटिन देव साहब।

नये लेख : प्रसिद्ध पक्षी वैज्ञानिक : डॉ . सलीम अली

ताऊ रामपुरिया ने कहा…

लाजवाब चुटकेल्ले, बेहतरीन लिंक्स.

रामराम.

पूरण खण्डेलवाल ने कहा…

सुंदर चुटकुलों के साथ अच्छा बुलेटिन !!

Prakash Govind ने कहा…

चटपटे चुटकुलों के साथ बढ़िया बुलेटिन
आभार

vandana gupta ने कहा…

badhiya buletin

महेन्द्र श्रीवास्तव ने कहा…

बढिया बुलेटिन

शिवम् मिश्रा ने कहा…

वाह देव बाबू ... खूब भीगो भीगो का लगाए हो आज ... बढ़िया बुलेटिन !

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

सुन्दर पठनीय सूत्र

tanu thadani ने कहा…

लाजवाब ......

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार