Subscribe:

Ads 468x60px

शनिवार, 20 जुलाई 2013

अकबर - बीरबल और ब्लॉग बुलेटिन

सभी ब्लॉगर मित्रों को हार्दिक नमस्कार।।

मैं हर्षवर्धन आज आपके सामने अकबर - बीरबल का एक किस्सा प्रस्तुत कर रहा हूँ आशा है कि ये आपको पसंद आएगा।

एक दिन एकांत में बादशाह अकबर के मन में यह सवाल उठा कि संसार में ऐसी कौन सी वस्तु है जिस पर चन्द्रमा और सूरज का प्रकाश ना पड़ता हो। बहुत देर तक सोच - विचार करते रहने पर भी जब उन के दिमाग में कोई बात नहीं आई, तो बादशाह ने यही समझा कि चन्द्रमा और सूरज प्रत्येक वस्तु पर अपना प्रकाश डालते हैं।

कुछ समय बीतने पर बादशाह ने सोचा कि शायद हमारे दरबार में कोई इस सवाल का जवाब दे सके। यह सोच कर एक दिन उन्होंने दरबार में सब के सामने यही सवाल रखा। सभी दरबारी यह सवाल सुनकर एक - दूसरे का मुँह देखते रह गए, किसी को भी इस सवाल का उचित जवाब ही नहीं मिला।

बाद में बीरबल ने कहा , "जहाँपनाह, मेरी समझ में तो इस संसार में अँधेरा ही एक ऐसी वस्तु है जिस पर ना तो चन्द्रमा और ना ही सूरज का प्रकाश पड़ता हो।"   

बादशाह और सभी दरबारी ने एक स्वर में बीरबल के इस उचित तर्क का अनुमोदन किया।


अब चलते आज की बुलेटिन  की और ....









11 टिप्पणियाँ:

डॉ. मोनिका शर्मा ने कहा…

बहुत उम्दा लिनक्स मिले..... शामिल करने का आभार

BS Pabla ने कहा…

तर्क तो सही है

लिंक्स हैं बढ़िया

पूरण खण्डेलवाल ने कहा…

सुन्दर सूत्रों का संकलन !!
आभार !!

सुज्ञ ने कहा…

युक्तियुक्त जवाब!!
शानदार बुलेटीन.....सार्थक उपयोगी लिंक

premkephool.blogspot.com ने कहा…

बहुत उम्दा लिंक्स. आभार

Darshan Jangara ने कहा…

बहुत उम्दा लिंक्स. आभार

manoj jaiswal ने कहा…

शानदार बुलेटीन, सार्थक उपयोगी लिंक मेरी पोस्ट को शामिल करने के लिए आपका एंव आपकी पूरी टीम का आभार।

शिवम् मिश्रा ने कहा…

काफी बढ़िया किस्सा सुनाया साथ साथ उतना ही बढ़िया बुलेटिन ... हर्ष बाबू !

देवेन्द्र पाण्डेय ने कहा…

बढ़िया तर्क। अभी लिंक्स नहीं देख पाया...

ताऊ रामपुरिया ने कहा…

बहुत सुंदर लिंक्स, आभार.

रामराम.

HARSHVARDHAN ने कहा…

आप सबका हार्दिक धन्यवाद। ऐसे ही स्नेह बनाए रखिएगा।।

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार