Subscribe:

Ads 468x60px

रविवार, 5 मई 2013

देश सुलग रहा है... ब्लॉग बुलेटिन


मित्रों देश सुलग रहा है, रोज नई वारदातें होती जा रही है। विश्व समुदाय भारत को महिलाओं के लिए असुरक्षित देश घोषित कर चुका है। भारत को विश्व मंचों पर दुनियां नें गम्भीरता से लेना बन्द कर दिया है। भारत की कमज़ोर सरकार इस क्षेत्र में कोई दबदबा रख पानें में नाकमयाब रही है। किसी भी तरफ़ की सीमा हमारे लिए सुरक्षित नहीं रह गई है। आतंकी और अलगाववादी फ़लफ़ूल रहे हैं, देश का शीर्ष नेतॄत्व केवल राजनीति खेलनें मे व्यस्त है। देश को लूटनें में व्यस्त हैं। हर ओर भारत की हंसी हो रही है लेकिन हिन्दुस्तान की जनता व्यस्त है अपनें आप में। मित्रों पिछले कुछ दिनों से हम और आप हिंदुस्तान की हालत से काफी चिंचित हैं। चीन भारत में घुसने को तैयार है और हमारे हिंदुस्तान के विदेश मंत्री चीनी दावत में जाने को तैयार हैं, सरबजीत को मार दिया जाता है और हमारे मंत्री डायलाग के रास्ते को बंद नहीं करेंगे और उनकी मेहमाननवाज़ी करते रहेंगे। कई सवाल हैं और उनके कोई जवाब नहीं हैं। मित्रों आखिर हमारी ऐसी हालत क्यूँ है और इस हालत के लिए ज़िम्मेदार कौन हैं।



पिछले दिनो कुछ कांग्रेसियों से मिला, वह अपनी ही सफ़लता की गारंटी की बात करते हैं। समझते हैं की यदि मोदी के नाम की घोषणा होती है तो फ़िर यूपीए-३ पक्का है। हमनें उन्हे याद दिलाया कोयला, २जी, आदर्ष, मौन प्रधानमंत्री, देश के नेताओं का बडबोलापन, सुप्रीम कोर्ट की हर मामलें में सरकार को लगनें वाली लात वगैरह वगैरह.... चुप्पी के बाद वह केवल इतना ही बोले की देखिएगा २०१४ में हमी आएंगे।

उसी दिन भाजपा और शिवसेना के भी कुछ लोकल नेताओं से बात हुई। यह इस मुगालते में जी रहे हैं की देश की त्रस्त जनता अगले चुनाव में हर हालत में कांग्रेस को निकाल बाहर करेगी। देश के पक्ष और विपक्ष को इस हालत में देखकर भाई मेरा तो सर चकरा गया। आखिर यह क्या हो रहा है भारत में। कांग्रेस ऐसा सोच सकती है क्योंकी हिन्दुस्तान का एक बहुत बडा वर्ग विमुख है सरकार से और उसका वोटिंग प्रणाली में कोई दखल है ही नहीं। फ़ेसबुक पर चिल्लानें वाला युवा वर्ग आखिर किस काम का? यह थोडे ही धूप में लाईन में लग कर वोट करेगा? यह तो वोटिंग के दिन को छुट्टी का दिन समझ कर किसी ट्रिप पर निकल लेता है।

देश के पक्ष और विपक्ष की आज की स्थिति से अवगत कराती इस पोस्ट को पूरा पढनें के लिए बदलता और सुलगता भारत:- भाग-१... राम भरोसे हिन्दुस्तान पर क्लिक करें।

चलिए आज के बुलेटिन की ओर चलें

-:-:-:-:-:-:-:-:-:-:-:-:-:-:-:-:-:-:-:-:-:-:-:-:-:-:-:-:-:-:-:-:-:-:-:-:-:-:-


चीनी सैनिकों ने दौलत बेग ओल्डी का इलाका खाली किया.

सि‍वा प्‍यार के कुछ भी नहीं.....


नवगीत

एक नज़र, फेनिल कॉमिक्स का अब तक का सफ़र

विश्व हास्य दिवस पर विशेष

सुखी परिवार ....

ऊलाव हाउगे : रोड रोलर

तिनका ही था कमज़ोर सा, उसका मुक़द्दर, देखना....

बनारस और आसपास

हर शाख पे उल्लू बैठा है.......

कसाब को फ़ांसी का बदला : सरबजीत का कत्ल

-:-:-:-:-:-:-:-:-:-:-:-:-:-:-:-:-:-:-:-:-:-:-:-:-:-:-:-:-:-:-:-:-:-:-:-:-:-:-

मित्रों आशा है आपको आज का बुलेटिन पसन्द आया होगा, कल फ़िर से मिलेंगे एक नए तेवर के साथ। कल तक के लिए इजाजत दीजिए

देव




11 टिप्पणियाँ:

स्वप्न मञ्जूषा ने कहा…

चिंता की बात तो है, भारत के लिए।
बहुत शानदार बुलेटिन, धन्यवाद !

sadhana vaid ने कहा…

आज के बुलेटिन में आपने मेरे विचारों को भी स्थान दिया आपका बहुत-बहुत आभार देव जी ! सभी लिंक्स बहुत आकर्षक हैं !

Udan Tashtari ने कहा…

चिन्तनपरक तथ्य है...लिंक बेहतर!!

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

रोचक बुलेटिन..

पूरण खण्डेलवाल ने कहा…

चिंता वाजिब ही है !!
सारगर्भित बुलेटिन !!

Suman ने कहा…

सार्थक लगी पोस्ट सच में चिंता की बात तो है !
आभार मेरी रचना को शामिल किया है ...

HARSHVARDHAN ने कहा…

बेहतरीन प्रस्तुति के साथ बढ़िया बुलेटिन|

शिवम् मिश्रा ने कहा…

जय हो देव बाबू सार्थक चिंतन के साथ पेश की गई है आज की ब्लॉग बुलेटिन !

महेन्द्र श्रीवास्तव ने कहा…

बढिया बुलेटिन
अच्छे लिंक्स

रश्मि शर्मा ने कहा…

सार्थक पोस्‍ट..वाकई जो हो रहा है वह चिंतनीय है....हमें जागना और जगाना होगा लोगों को...
मेरी रचना शामि‍ल करने के लि‍ए आपका आभार

Dev K Jha ने कहा…

सभी का धन्यवाद

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार