Subscribe:

Ads 468x60px

सोमवार, 13 मई 2013

अक्षय तृतीया




वैसाख मास की शुक्ल पक्ष की तृतीया को ‘अक्षय तृतीया’ कहते हैं। इस साल यह सोमवार यानी आज 13 मई को मनाई जा रही हैं। अक्षय का शाब्दिक  अर्थ है ‘अक्षय’ अर्थात जो ‘सदा-सर्वदा’ रहे। जिसका क्षय न हो। लोक भाषाओं में इसे ‘आखातीज’, ‘अखाती’  और ‘अकाती’ कहा जाता है।  पौराणिक कथाओं में आख्यान आता है कि देवताओं को यह तिथि बहुत प्रिय है। इसलिए इसे उत्तम और पवित्र तिथि माना गया है। ये ऐसी तिथि है जिसमें हर घड़ी, हर पल को शुभ माना जाता है। 
भविष्य पुराण के अनुसार ‘अक्षय तृतीया’ के दिन सतयुग एवं त्रेतायुग का प्रारंभ हुआ था। भगवान विष्णु के 24 अवतारों में भगवान परशुराम, नर-नारायण एवं हयग्रीव आदि तीन अवतार अक्षय तृतीया के दिन ही धरा पर आए। तीर्थ स्थल बद्रीनारायण के पट भी अक्षय तृतीया को खुलते हैं।
अक्षय तृतीया पर सोना खरीदना अत्यंत शुभदायी माना जाता है और इसलिए सोना खरीदने की परंपरा भी इस त्यौहार से जुड़ी हुई हैं। लोग ठोस सोने के साथ ही सोने के आभूषण भी इस तिथि को खरीदते हैं। बदलते जमाने के साथ ही यह त्यौहार पर भी आधुनिकता की छाप दिखने लगी है। पुराण, पंडित और ज्योतिषी तो सैकड़ो सालों से इस दिन सोना खरीदने की सलाह देते आ रहे हैं और अब इंवेस्टमेंट अडवाईजार्स भी सोना खरीदने की राय दे रहे हैं। इसी कारण सोनाखरीदने के साथ ही इस दिन लोग गोल्ड एक्चेंज ट्रैडेड फंड के जरिए डीमैट फार्मेंट में सोने की खरीदारी करने लगे हैं और सोने को बतौर निवेश देखने लगे हैं। अक्षय तृतीया को स्वर्ण युग की आरंभ तिथि भी मानी गई है। ऐसी पौराणिक मान्यता है कि इस दिन खरीदा और धारण किए गए सोने और चांदी के गहने अखंड सौभाग्य का प्रतीक माने गए हैं। मान्यताओं के मुताबिक सोने और चांदी के आभूषण खरीदने से घर में बरकत ही बरकत आती है .....
बरकत होगी तो सोना ले सकते हैं ... पर सोने से पहले तो हर दिन को शुभ करने के लिए ज़रूरी है - रोटी,कपड़ा और मकान .... पेट की भूख मिट गई,अच्छी नौकरी लग गई,.... तो समझिये देवता खुश ! यानि देवताओं को अपने भक्तों की संतुष्टि बहुत प्रिय है और प्रभु जो दे,जितना दे - सोने से कम है क्या ? 
जिसने सोना खरीदा उन्हें बधाई,जो नहीं खरीद पाए उन्हें भी बधाई - बहुत झंझट है सोना पहनकर निकलना :) 

अच्छे लिंक्स देखिये - पढ़ें हों तो मेरे चयन को शाबाशी दीजिये, न पढ़ा हो तो पढ़िए और फिर शाबाशी दीजिये, मेरे लिए तो यही अक्षय तृतीया है 

15 टिप्पणियाँ:

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

सबको शुभकामनायें।

सुज्ञ ने कहा…

शानदार बुलेटीन......
"अपना अपना महत्तव" को महत्त्व देने के लिए आभार

सुज्ञ ने कहा…

अक्षय तृतीया की सभी को शुभकामनाएं

Kailash Sharma ने कहा…

बहुत सुन्दर...अक्षय तृतीया की शुभकामनायें!

शालिनी कौशिक ने कहा…

.सुन्दर लिनक्स संजोये हैं आपने .आभार अक्षय तृतीया की शुभकामनायें!.अख़बारों के अड्डे ही ये अश्लील हो गए हैं .

देवेन्द्र पाण्डेय ने कहा…

अक्षय तृतीया के दिन स्वर्ण रेखा नदी की चर्चा हो गई।..मैं भूला हुआ था।..आभार।

Ramakant Singh ने कहा…

ब्लॉग बुलेटिन परिवार का ह्रदय से आभारी कि अक्षय तृतीया के पावन अवसर पर रचना को शामिल किया

Ranjana Verma ने कहा…

अक्षय तृतीय कीजानकारी के लिए धन्यवाद शुभकामना!

शिवम् मिश्रा ने कहा…

अक्षय तृतीय की काफी रोचक जानकारी मिली , आभार रश्मि दीदी !
सभी को इस पावन पर्व की हार्दिक शुभकामनायें !

Abhimanyu Bhardwaj ने कहा…

आप सभी को अक्षय तृतीया की शुभकामनायें धन्‍यवाद
हिन्‍दी तकनीकी क्षेत्र कुछ नया और रोचक पढने और जानने की इच्‍छा है तो इसे एक बार अवश्‍य देखें,
लेख पसंद आने पर टिप्‍प्‍णी द्वारा अपनी बहुमूल्‍य राय से अवगत करायें, अनुसरण कर सहयोग भी प्रदान करें
MY BIG GUIDE

Rajput ने कहा…

अक्षय तृतीय कीजानकारी के लिए धन्यवाद ,
बहुत सुंदर संकलन

Rajendra Kumar ने कहा…

अक्षय तृतीय की काफी रोचक जानकारी मिली,.सुन्दर लिनक्स संजोये हैं आपने,आभार.

shikha varshney ने कहा…

बढ़िया लिनक्स हैं. लीजिये एक सोने का मोहर सी टिप्पणी आपकी हुई :):)

Maheshwari kaneri ने कहा…

अक्षय तृतीय की काफी रोचक जानकारी मिली , आभार...

Pallavi saxena ने कहा…

बढ़िया लिंक्स के साथ आपने इस त्यौहार के विषय में जो विवेचना की वह भी बहुत अच्छी लगी। :)

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार