Subscribe:

Ads 468x60px

बुधवार, 27 फ़रवरी 2013

राष्ट्र हित मे आप भी जुड़िये इस मुहिम से ...


ब्लॉगर मित्रों, 
सादर नमस्कार!

आपसे सविनय अनुरोध है के राष्ट्र हित मे आप भी जुड़िये इस मुहिम से - 'मिशन नेताजी'




हर हर महादेव....

नेताजी सुभाष चन्द्र बोस इस नाम से आज सभी भारतीय वाकिफ हैं | एक ऐसा नाम जिसने भारत की आज़ादी की जंग में स्वर्णिम इतिहास रचा | भारत को स्वतंत्र संग्राम हेतु अपनी पहली पूर्ण भारतीय सेना प्रदान की | जंग-ए-आज़ादी के शेर कहलाने वाले नेताजी का नाम आज भारत ही नहीं विदेशों में भी बच्चा बच्चा जानता है | परन्तु बहुत खेद के साथ यह कहना पड़ता है के जितना नेताजी ने भारत और भारतवासियों को दिया उतना देश ने और देशवासियों ने नेताजी को नहीं दिया | 

आजादी के पश्चात नेताजी का नाम एक गुमनाम बनकर रह गया | जनता से झूठ कहा गया के नेताजी की मृत्यु हो गई है परन्तु उन्हें न चाहते हुए भी अज्ञातवास ग्रहण करना पड़ा | इसकी वजह थे चंद खुदगर्ज़ और सत्ता के भूखे नेता जो अपने स्वार्थ हेतु यह नहीं चाहते थे के नेताजी स्वतंत्र भारत की राजनीति में आयें  | सन 1945 मे नेताजी सुभाष चन्द्र बोस की तथाकथित हवाई दुर्घटना या उनके जापानी सरकार के सहयोग से 1945 के बाद सोवियत रूस मे शरण लेने या बाद मे भारत मे उनके होने के बारे मे हमेशा ही सरकार की ओर से गोलमोल जवाब दिया गया है उन से जुड़ी हुई हर जानकारी को "राष्ट्र हित" का हवाला देते हुये हमेशा ही दबाया गया है ... 'मिशन नेताजी' और इस से जुड़े हुये मशहूर पत्रकार श्री अनुज धर ने काफी बार सरकार से अनुरोध किया है कि तथ्यो को सार्वजनिक किया जाये ताकि भारत की जनता भी अपने महान नेता के बारे मे जान सके पर हर बार उन को निराशा ही हाथ आई !

आज हर भारतीय ने नेताजी के आसपास के विवाद के बारे में सुना है, बहुत कम लोग जानते हैं कि तीन सबसे मौजूदा सिद्धांतों के संभावित हल वास्तव में उत्तर प्रदेश में केंद्रित है| संक्षेप में, नेताजी के साथ जो भी हुआ उसे समझाने के लिए हमारे सामने आज केवल तीन विकल्प हैं: या तो ताइवान में उनकी मृत्यु हो गई, या रूस या फिर फैजाबाद में | 

1985 में जब एक रहस्यमय, अनदेखे संत “भगवनजी” के निधन की सूचना मिली, तब उनकी पहचान के बारे में विवाद फैजाबाद में उभर आया था, और जल्द ही पूरे देश भर की सुर्खियों में प्रमुख्यता से बन गया| यह कहा गया कि यह संत वास्तव में सुभाष चंद्र बोस थे। बाद में, जब स्थानीय पत्रकारिता ने जांच कर इस कोण को सही ठहराया, तब नेताजी की भतीजी ललिता बोस ने एक उचित जांच के लिए उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाया। 

नेताजी से जुडी सच्चाई, उनके अनसुलझे रहस्य और भगवानजी असल में कौन थे ऐसे सवालों के जवाब सामने लाना ही इस मुहीम का मकसद है |  तथा उन सभी झूठों का पर्दाफ़ाश करने के लिए जो इस झूठ को फ़ैलाने के पीछे हैं, के लिए हमने यह मुहीम छेड़ी है और इस मुहीम से जुड़ना ही अपने आप में गर्व और गौरव का प्रतीक है | आप सभी इस मुहीम से ऑनलाइन याचिका साइन कर के, ब्लॉग के ज़रिये, साकार रूप से, निराकार रूप से, दृश्य-अदृश्य रूप से या फिर किसी भी अन्य रूप से जुड़ सकते हैं और इसे सफल बनाने में हमारा सहयोग कर सकते हैं | धन्य हैं वो लोग जो इसमें अपना योगदान दे रहे हैं | आज पता चल जायेगा के कौन-कौन खून देता है और नेताजी को गुमनामी के अँधेरे आज़ादी दिलाता हैं | जय कारा वीर बजरंगी का | जय हो | भारत माता की जय | 

http://jaagosonewalo.blogspot.in/2013/02/blog-post_27.html
http://vranishrivastava.blogspot.in/2013/02/1945-1945.html
http://tamasha-e-zindagi.blogspot.com/2013/02/blog-post_27.html
http://www.hansteraho.com/2013/02/blog-post_27.html
http://jindagikeerahen.blogspot.com/2013/02/blog-post_27.html
http://archanachaoji.blogspot.com/2013/02/blog-post_27.html
http://kalptaru.blogspot.com/2013/02/blog-post_27.html
http://padmsingh.blogspot.com/2013/02/blog-post_27.html
http://shroudedemotions.blogspot.in/2013/02/blog-post.html
http://rbh-devkjha.blogspot.com/2013/02/blog-post.html
http://pankajkrsah.blogspot.in/2013/02/blog-post_27.html

http://rewa-mini.blogspot.in/2013/02/1985-2005.html
http://www.arunsblog.in/2013/02/blog-post_28.html
http://dineshpareek19.blogspot.in/2013/02/blog-post_28.html
http://pksharma2.blogspot.in/2013/02/blog-post_28.html
http://doonitesblog.blogspot.in/2013/02/blog-post_7814.html
http://varunsah.blogspot.in/2013/03/blog-post.html
http://kuchkhaas-post.blogspot.in/2013/03/blog-post.html

******************************************************************

पेश-ए-खिदमत हैं आज के ब्लॉग बुलेटिन लिंक्स :

महान देशभक्त वीर चन्द्र शेखर आजाद

सुभाष चन्द्र बोसे से मुलाक़ात

नेताजी

इन्कलाब जिन्दाबाद क्या है? [सरदार भगत सिंह के पत्र(१)]

अब इसको कहूँ ग़ज़ल या दिल का उदगार

गणतंत्र गाओ

गया है

न जाने माँ इतनी हिम्मत रोज़ कहाँ से लाती है

महापुराण

खुली आँखों का सपना

दिन हौले हौले ढलता है

अंडा डाल

वह प्रेम-पंखुड़ी

सगा सौतेला

संघर्ष

सादर प्रणाम
तुषार राज रस्तोगी
तमाशा-ए-ज़िन्दगी
तमाशा-ए-ज़िन्दगी फेसबुक पन्ना

11 टिप्पणियाँ:

SACCHAI ने कहा…

उम्दा लींकों से सजा है आज का ब्लॉग बुलेटिन

Dr.NISHA MAHARANA ने कहा…

links acche hain samay milte hi padhungi.....

शिवम् मिश्रा ने कहा…

इस पहल के लिए साधुवाद ... पर अभी यह सिर्फ एक शुरुआत है इसको और आगे ले जाना होगा ... सभी का सहयोग चाहिए होगा !

Rajendra Kumar ने कहा…

बहुत ही सार्थक लिंकों से सजा है आज का ब्लॉग बुलेटिन,आपके अभियान को साधुवाद.

HARSHVARDHAN ने कहा…

इस मुहीम के लिए शुभकामनाएँ और हम भी हर वक़्त आपके और इस मुहीम के साथ है। जय हिन्द।

गोपाल कृष्ण शुक्ल ने कहा…

देश का दुर्भाग्य है कि नेता जी को अग्यातवास को मजबूर होना पडा...

kavita verma ने कहा…

netaji ka agyatvaas hamare desh ka durbhagy raha..hamne ek jujharu neta ko kh diya...sundar links se saja BLOG-BULATIN ..abhar

shikha varshney ने कहा…

सुन्दर सार्थक बुलेटिन

मुकेश पाण्डेय चन्दन ने कहा…

I agree and support with you.
nice links.
www.bebkoof.blogspot.com

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

सुन्दर सूत्रों से सजा बुलेटिन..

कमल शुक्ला ने कहा…

इस मुहीम के लिए शुभकामनाएँ http://ghotul.blogspot.in/

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार