Subscribe:

Ads 468x60px

रविवार, 17 फ़रवरी 2013

सनातन कालयात्री की ब्लॉग यात्रा 2 - ब्लॉग बुलेटिन

लीजिये साहब पेश है सनातन कालयात्री की ब्लॉग यात्रा का दूसरा भाग :- 

 

हिन्दी ब्लॉग जगत में अपने उद्देश्य के प्रति समर्पण देखना हो तो 'गत्यात्मक ज्योतिष' का झंडा उठाई ब्लॉगर संगीता पुरी का ब्लॉग देखिये। तमाम चुटकियों और बौद्धिक विरोधों के बावजूद यह डटी रहीं, हुई हैं और आगे बढ़ती जा रही हैं।
इनका मुख्य ब्लॉग है:
http://sangeetapuri.blogspot.in/
 
हिन्दी ब्लॉग जगत की कहानी ताऊ के लठ्ठ की चर्चा के बिना अधूरी रहेगी। ब्लॉगजगत की शोले नाम से इन्हों ने फिल्म भी बनाई ;) जिसे अपनी हरयाणवी लाठी के जोर से हिट करवा दिया। इनकी फिलम से प्रेरित हो बाद में अनेक जन ने पोस्ट फोस्ट लिखी। एक मिसिर जी ने लिखी थी http://mishraarvind.blogspot.in/2009/08/blog-post_18.html जिस पर उड़नतश्तरी लाल और फुरसतिया ने भी चुटकियाँ लीं। चचा चुप रहे।
बिलाग जगत में ब्लॉगरी छोड़ने की धमकी दे कर मनावन के बाद वापस आ जाने का कृत्य शोले की तर्ज पर टंकी आरोहण कहलाता है। पहले टंकी आरोहक थे सागर नाहर। उस पोस्ट का लिंक यह है:
http://nahar.wordpress.com/2006/06/30/alvida-dosto/
विश्वास कीजिये ब्लॉग जगत रोचकता के मामले में फेसबुक से कम नहीं है।

http://taau.taau.in/
 
स्थैतिक जोतखी हैं ब्लॉगर सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी। आधुनिक ज्योतिषी हैं - अध्ययन और संशय में विश्वास रखने वाले और एकदम ईमानदार।
अपने को विद्यार्थी बताते हैं और ज्योतिष के इतर विषयों पर भी सलीके से कलम चलाते हैं।
अब इसी लेख को देखिये न!
http://imjoshig.blogspot.in/2013/01/blog-post_21.html
 
रेडियो से भी जुड़ी हुई हैं ब्लॉगर रश्मि रविजा। 'अपनी, उनकी, सबकी बातें' करती हैं। इनका मुम्बई से लेखन नयी पीढ़ी से जुड़ता है। समसामयिक ज्वलंत मुद्दों पर लिखती हैं और पाठकों से संवादित होती चलती हैं। इनका ब्लॉग है:
http://rashmiravija.blogspot.in/
 
बंगलोर की ब्लॉगर हैं पूजा उपाध्याय। प्रेममय अनुभूतियों को एक आधुनिक लड़की कैसे बहाती है, कैसे उनमें बहती है जैसे कि एक चिड़िया मुक्त आकाश में उड़ती है!
इनके साथी पति के भाग्य से ईर्ष्या सी हो सकती है।
http://laharein.blogspot.in/
 
भौतिक विज्ञान से सम्बन्धित विषयों पर लिखते हैं ब्लॉगर आशीष श्रीवास्तव। इनका विज्ञान-विश्व हिन्दी में विज्ञान विषयक ब्लॉगों की कमी दूर करता है।
http://vigyan.wordpress.com/
 
ब्रह्मांडीय और नाक्षत्रिक पिंडों के बारे में हिन्दी में जानना हो तो इस ब्लॉग पर जाइये।
http://antariksh.wordpress.com/
 
विज्ञान, धर्म और अभियांत्रिकी सम्बन्धित विषयों पर लिखती हैं शिल्पा मेहता। ब्लॉगरी में अपेक्षाकृत नयी हैं लेकिन फॉलोइंग बढ़ रही है। स्वयं की हिन्दी को लेकर आशंकित रहती हैं लेकिन जब पाठक समझ रहे हैं तो चिंता क्यों करनी?
http://shilpamehta1.blogspot.in/
 
हिन्दी के मठाधीशों द्वारा लोकभाषाओं की उपेक्षा और उन्हें दोयम से भी नीचे रखने की प्रवृत्ति के विरुद्ध खड़े हैं ब्लॉगर अमरेन्द्र नाथ त्रिपाठी। इनका अवधी ब्लॉग है - अवधी कै अरघान। मेधा और तार्किकता देखनी हो, लोक का रस पाना हो तो यहाँ जायें:
http://awadh.org/
 
हिन्दी ब्लॉग जगत का एक प्राचीन बवाल।
http://srijanshilpi.com/archives/115
 
गुणवत्ता के प्रतीक हैं ब्लॉगर ललित कुमार। ये कविताकोश और गद्यकोश जैसी हिन्दी साहित्यिक साइटों के संचालक हैं। इन्हें देख कर हिन्दी में दम लगता है।
इनका ब्लॉग है:
http://dashamlav.com/
 
स्त्री विमर्श की एक स्थापित, सशक्त और सर्वादृत ब्लॉगर हैं घुघूती बासूती। इनका ब्लॉग है:

http://ghughutibasuti.blogspot.in/
 
स्वयं को 'टेलीविजन का एक कट्टर दर्शक' बताते हैं ब्लॉगर विनीत कुमार। गुणवत्ता आप स्वयं देखिये:
http://www.hunkaar.com/
 
हिन्दी ब्लॉगरी के सरदार हैं बी एस पाबला। कम्प्यूटर तकनीकी के मामलों में सबकी सहायता करने वाले यायावर हैं। गैजेट्स की अच्छी जानकारी रखते हैं और हिन्दी ब्लॉगरों के जन्मदिन हों या कहीं किसी के द्वारा छिपा कर छाप देने के मामले, इनसे बच नहीं सकते।
कमाल के जीवट के धनी हैं ये छ्त्तीसगढ़िये ब्लॉगर।
http://www.bspabla.com/
 
इनकी गीत कविताओं में कुछ ऐसा खास होता है जो कहा नहीं जा सकता। व्यक्तिगत कहूँ तो मेरे पसन्दीदा कवियों में से एक हैं। फोटोग्राफी भी उत्तम करते हैं। बनारस के घाटों पर भटकते हैं और आनन्द के बचपन के संस्मरण लिखते हैं। माने कि एकदम 'बेचैन आत्मा' हैं देवेन्द्र पांडेय।
गद्य भी मोहक लिखते हैं।

http://devendra-bechainaatma.blogspot.in/
 
योद्धा ग़जलगो हैं गौतम राजरिशी। इनका ब्लॉग है - पाल ले एक रोग नादाँ। कश्मीर सीमा की हिम कठिनाइयों को झेलने वाले इस ऑफिसर का दिल बहुत कोमल है। इनके ग़जलों और गद्य की रवानगी देखते बनती है।
http://gautamrajrishi.blogspot.in/
 
डा. अरविन्द मिश्र का एक विज्ञान विषयक ब्लॉग है साईब्लॉग। इसमें 'फाई' तत्व का प्राचुर्य है। बिन्दास विषयों पर वैज्ञानिक चर्चा के लिये यहाँ पधारें।
http://indianscifiarvind.blogspot.in/
 
कठिन कर्म के तापस हैं ब्लॉगर मनोज कुमार। राजभाषा हिन्दी, मनोज और मेरे विचार - कुल तीन ब्लॉग। गुणवत्ता एकदम बरोबर! इनका राजभाषा ब्लॉग एक सन्दर्भ कोश जैसा है।
http://raj-bhasha-hindi.blogspot.in/
 
कच्ची देसी दारू चुआने वाले हथकढ़ी ब्लॉगर हैं किशोर चौधरी। ऐसी कहानियाँ लिखते हैं कि पढ़ कर प्रेम करने वालों की क़्यू लग जाय!
और क्या कहूँ? कहानियाँ उम्दा हैं? ... नहीं जी, उन पर तो खूब लिखने का अपने से वादा है। वादे मुझसे पूरे होते नहीं लेकिन प्रतीक्षा कर सकते हैं।

http://kishorechoudhary.blogspot.in/
 
अपने मन की करती हैं ब्लॉगर अर्चना चावजी। पॉडकास्ट और अन्य ब्लॉगरों की रचनाओं को स्वर देती हैं। इनका स्नेह सब पर एक सा। कहती भी हैं - मै, सबसे पहले एक बेटी,फ़िर बहन,फ़िर सहेली,फ़िर पत्नी,फ़िर बहू, फ़िर माँ,फ़िर पिता,फ़िर वार्डन, फ़िर स्पोर्ट्स टीचर और फ़िलहाल "ब्लॊगर" के किरदार को निभाती हुई,"ईश्वर" द्वारा रचित "जीवन" नामक नाटक की एक पात्र।
http://archanachaoji.blogspot.in/
 
वैदिक और सनातन संस्कृति की शुभ्रता के पक्ष में खड़े रहते हैं अमित शर्मा। बहुत ही सहज, सरल ढंग से भ्रम दूर करते हैं, समझाते हैं।
http://www.amitsharma.org/
 
महाकाल की नगरी के वासी और अब बंगलोर/मध्यपूर्व में भ्रमण करते सूचना तकनीकी के क्षेत्र से जुड़े हैं सरल हृदय ब्लॉगर विवेक रस्तोगी। साहित्य के शौकीन और पाक कला में प्रवीण। वजन है! बहुत ही मिलनसार व्यक्ति हैं।
http://kalptaru.blogspot.in/
 
आकाशवाणी से जुड़े हैं रेडियो वाले युनुस खान। विविध भारती पर सुने जा सकते हैं। ये भी हिन्दी ब्लॉगर हैं। इनका ब्लॉग है - रेडियो वाणी। गुणवत्ता इनकी खासियत है।
http://radiovani.blogspot.in/
 
जब शब्द चुकें, मन के मौन पढ़ना।
ज़ेन कथाओं से मोती चुन चुन लाते हैं ब्लॉगर निशांत मिश्र। इस निशा की सक्रियता का अंत उनके ब्लॉग से। शुभरात्रि!
http://hindizen.com/
 
अभी फिलहाल यह यात्रा एक विराम पर है ... अरे भई आखिर इतनी लंबी यात्रा एक बार मे कैसे पूरी की जा सकती है और वैसे भी इन के ब्लॉग का नाम "एक आलसी का चिठ्ठा" ऐसे ही थोड़े न है ... ;-)

अगली पोस्ट तक इन के पास बैठो कि इनकी बकबक में नायाब बातें होती हैं, तफसील पूछोगे तो कह देंगे - "मुझे कुछ नहीं पता।"

10 टिप्पणियाँ:

Padm Singh ने कहा…

धन्न भाग जहाँ बरसे कुवारा !! आलसी महराज की परिक्रमा बहुत सारे अच्छे ब्लॉग पढ़वा रही है ... बधाई

Shah Nawaz ने कहा…

Waaah... achchhe blogs.... Fir se blogvani ke dino ki yaad taaza ho gayi...

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन ने कहा…

बहुत खूब, जारी रहे!

Vivek Rastogi ने कहा…

अरे यार ये इतनी आलसी में इतना काम करते हैं, अगर आलसी मिटा देंगे तो पता नहीं क्या कर डालेंगे ।

देवेन्द्र पाण्डेय ने कहा…

(18+24)=42

108-42)=66 की प्रतीक्षा। गिनती मिला लीजिए। वैसे लिख ही दीजिए। :)

HARSHVARDHAN ने कहा…

बहुत बढ़िया। ऐसा लग ही नहीं रहा है कि यह कोई पोस्ट है, यहाँ तो ऐसा लग रहा है जैसे ब्लोगों की धारा बह रही हो।

कृपया इस जानकारी को भी पढ़े :- इंटरनेट सर्फ़िंग के कुछ टिप्स।

शिवम् मिश्रा ने कहा…

जय हो महाराज ... चलाये रहिए यह यात्रा !

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

सुन्दर संकलन...

Arvind Mishra ने कहा…

चलिए दूसरी भी बांच लिए

Archana ने कहा…

नये ब्लॉगरों के लिए भी सही संकलन ... :-)

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार