Subscribe:

Ads 468x60px

शनिवार, 31 मार्च 2012

ब्लॉग बुलेटिन: गायब होती टिप्पणियों का राज़ - शाहनवाज़

ब्लॉग बुलेटिन टीम की ओर से मैं अर्थात शाहनवाज़ आपका एक बार फिर से स्वागत करता हूँ. आज हम चर्चा करेंगे गायब होती टिप्पणियों की.

आज कल हर एक के ब्लॉग पर टिप्पणियां गायब हो जाती हैं, और टिप्पणीकार परेशान हाल दिखाई देता है. कई बार तो टिप्पणी गायब होने की शिकायत करने के लिए कई-कई टिप्पणी कर देता है. लेकिन हाल जस का तस, सब की सब गायब!!!

आखिर कौन है इसके पीछे, जब कई बार यह शिकायत हमें भी सुनने को मिली तो खोजबीन चालू की और इसके पीछे ब्लॉगर अर्थात गूगल बाबा की भारत के लिए बनाई गई नई नीतियों को पाया. ब्लोगर.इन पर आने के बाद भारत के लिए अलग से नीतियाँ बना रहा है और इसी कड़ी में भारतीय शब्दों को भी स्पेम फिल्टर किया जा रहा है.  हालाँकि अभी तक हिंदी के शब्दों की कोई नहीं खोज पाया हूँ पर बात को समझने के लिए आपको अंग्रेजी के शब्दों वाली यह दो लिस्ट देखकर माजरा आसानी समझ में आ सकता है.



तो अबकी बार अगर आपकी टिप्पणी गायब हो जाए तो माथे पर बल डालने की आवश्यकता नहीं है, यह भी सोचना बेकार है कि अमुक ब्लोगर को आपकी टिप्पणी पसंद नहीं आई. अथवा किसी व्यक्तिगत खुंदक के कारण आपके कमेन्ट को मंज़ूर नहीं किया गया. बल्कि सब्र करो और ब्लोगर के स्पेम फोल्डर देखने भर तक का इंतज़ार करो.


स्वयं अपने ब्लॉग का भी स्पेम फोल्डर चेक करते रहो, कहीं ऐसा ना हो कि किसी की आवाज़ नक्कार खाने की तूती की तरह दब कर रह गयी हो.


बस इतना सा ही कार्य करना है, चलिए अब ब्लॉग जगत की हलचल पर नज़र डालते हैं.




2*७ फ़रवरी **२०१२* को हरकीरत 'हीर' जी के काव्य संग्रह *'दर्द की महक'* का विमोचन और लोकार्पण दिल्ली के प्रगति मैदान में संपन्न हुआ । इत्तेफाक से इस समारोह ...



आप गीत-संगीत के दीवाने हैं. ठीक है. परंतु क्या आप उच्च-गुणवत्ता के, हाई-डेफ़िनिशन संगीत के दीवाने हैं? यदि हाँ तो ये डाउनलोड आपके लिए ही ह...






स्वास्थ्य-सबके लिए  पर
चुभती-जलती गर्मियों के मौसम में ठंडक का एहसास पाने के लिए जरूरी है फलों और सब्जियों में पाए जाने वाले गुणी तत्वों और उनके सही इस्तेमाल के तरीके का ज्ञान ह...


जब युवा मित्र निश्चय कर चुके थे कि नकल पूर्णतया न्यायसंगत और धर्मसंगत है तो उन्हें पढ़ने के लिये उकसाने का तथा कोई महत्वपूर्ण अध्याय पढ़ा देने का अर्थ शेष...






अनवरत  पर
यूँ तो मुझे सब लोग कहते हैं कि मैं बहुत सुस्त वकील हूँ। पर मैं जानता हूँ कि जल्दबाजी का नतीजा अच्छा नहीं होता। अभी कुछ दिन पहले एक मुकदमे में सफलता ...






अमरीकी दादागीरी के खिलाफ लामबंद हो रहे हैं ब्रिक्स देश 
शेष नारायण सिंह नयी दिल्ली, २९ मार्च. ब्रिक्स देशों का चौथा शिखर सम्मलेन आज संपन्न हो गया. इस अवसर पर रूस के राष्ट्रपति दिमित्री मेदवेदेव ने ऐलान किया कि ...


धरती के जन्मे को एक न एक दिन मृत्यु का वरण करना ही है-इसलिए ही पृथ्वी को मृत्युलोक कहा गया है .मगर मृत्यु चाहता कौन है? कहते हैं जनमत मरत दुसह दुःख होई ...


सम्बन्धित आलेख-1.हाथों की कुशलता यानी दक्षता.2.दक्षिणापथ की प्रदक्षिणा.3.टैक्सी की तकनीक, टैक्स की दक्षता.4.बेपेंदी का लोटा और लोटा-परेड.5...






देखा गया है कई बार ऐसा भी कि सत्तासीन पार्टी के गुणगान के एवज में अखबारी कागज़ एक उपहार है। और कागज़ बचाने की मुहिम जब शुरू हुई तब तक संपादकों को प्रिंट आ...


तलाक़-तलाक़-तलाक़... इस्लामी शरीयत में ये शब्द, मात्र शब्द नहीं है, ये है शब्दों की सुनामी...जो पल भर में ही पति-पत्नी के रिश्तों को तहस-नहस करके, इतना सडा-गला...





*कहानी अब तक--* *(जया के कविता संग्रह को पुरस्कार मिलने पर पत्रकारों के इस सवाल ने 'उसकी कविताओं में इतना दर्द कहाँ से आया ?' उसे पुरानी यादों के मंज़र मे...





*रिश्‍तों में एक खुशबू होती है, बस उसे मुठ्ठी में भरने की जरूरत है * *इस पोस्‍ट को पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें - www.sahityakar.com*


आजकल लंबे ब्रेक ले लेकर ब्लॉगिंग करना रास आ रहा है...वैसे तो इस साल के शुरू से ही रोज़ ब्लाग लिखने की स्वयंभू परंपरा को तोड़ दिया है...इसलिए​ अब ये तना...




उफ़्फ़ रात को भयावह स्वप्न आ रहे हैं पता नहीं किस बात का अंदेशा है । *स्वप्न १* साड़ी में लिपटी हुई माता के ऊपर ड्रेगन की नजर है और ड्रेगन के मुँह से आ...

प्रसून जी गुड मॉर्निंग..लोकमत समाचार में आज छपा विश्लेषण "गडकरी का बीजेपी खेल" अच्छा है , पर सवाल यह है कि बीजेपी ही कोई पहली बार"कांग्रेस की लीक"पर नहीं ...




नारी ब्लॉग के पाठको के लिये कुछ लिंक लिंक १ लिंक २ लिंक ३ All post are covered under copy right law . Any one who wants to use the content has to t...

न नाते देखता है न रस्में सोचता है रहता है जिन दरों पे न घर सोचता है हर हद से पार गुजर जाता है आदमी दो रोटी के लिए कितना गिर जाता है आदमी ***************...




स्वतंत्रत तिब्बत = हिमालय की शांति सारे तिब्बत में आग लगी हुई है। शांतिप्रिय तिब्बतियों को चीनी सैनिक अपने जूतों-तले रौंद रहे है। मठों पर सेना का कब्ज़ा है।...




स्वदेश-परिचय माला में प्रकाशित ग्यारह पुस्तकों में एक, ''भारत की नदियों की कहानी'', आइएसबीएन : 978-81-7028-410-9 है। हिन्दी के प्रतिष्ठित राजपाल एण्ड सन्ज़...




हिन्दुस्तान की समस्या यह नहीं है कि हम क्या करते हैं? जो हम करते हैं वह मानव स्वभाव है, वो कोई समस्या नहीं.. सारी दुनिया वही करती है मगर समस्या यह है कि ...






"मनोज" पर
*स्मृति शिखर से... 11* *वे लोग, भाग – 3* - करण समस्तीपुरी गाँव में समरसता अधिक होती है। सरलता भी अधिक होती है। अपने पराये का भेद थोड़ा कम होता है। सुविध...

महानदी उद्गम पुरातात्विक खजाने से *छत्तीसगढ* समृद्ध है। हम छत्तीसगढ में जिस स्थान पर जाते हैं वहां कुछ न कुछ प्राप्त होता है और हमारी विरासत को देख कर गर...




ऐसा पहले कभी नहीं हुआ कि रेल मंत्री के बजट पेश करके संसद से निकलते-निकलते उसे पद से हटाने की तैयारी हो गई हो। पर ममता बनर्जी सरीखी नेता हों तो ऐसा होना...




राम की चिरैया राम का खेत खावो री चिरैया भर-भर पेट 
राम की चिरैया राम का खेत खावो री चिरैया भर-भर पेट राम यदि अपनी चिड़ियों को अपने खेत की फसल चुगने देता है तो इसमें दोष ही क्या है? आखिर चिड़ियों और खेत दोनों ...


संस्कृति किताबों में लिखी हुए वे इबारतें नहीं हैं जो अलमारी में सहेज कर रख दी जाएँ , यह हमारी दैनिक जीवनचर्या है जो आदतों और परम्पराओं के रूप में एक पीढ़ी...




TSALIIM पर
'विज्ञान प्रसार' विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग, भारत सरकार के अधीन एक स्‍वायत्‍त संस्‍थान है और इसका प्रमुख उद्देश्‍य विभिन्‍न माध्‍यमों के जरिए देश और सम...

कवियों की बेतरह बढ़ती भीड़ में कविता एकदम से जैसे लुप्तप्राय हो गई है...हर जगह से, हर ओर से| मैं कोई आलोचक नहीं, न ही कवि हूँ| हाँ, कविताओं का समर्पित प...




 हमारे मुख्य वाणिज्य प्रबन्धक (माल यातायात) सुश्री गौरी सक्सेना के कमरे में मिले श्री योगेश्वर दत्त पाठक। श्री पाठक उत्तर मध्य रेलवे मुख्यालय के वाणिज्य नि...


सफ़ेद घर पर

हम इहां बम्मई में आपन काम धन्धा देखें कि तू लोग का रगरा-झगरा - अरे तो मिलि-जुलि के रह नहीं सकती हो, कि जरूरी है लड़का बच्चा को लेकर मार झगरा करना - अरे त ...


ज्ञान दर्पण पर
रिश्तों को न थामों तुम मुट्ठी में रेत की तरह ... सरक जायेंगे वो भी वक़्त की तरह .. महसूस करो तुम उनको हर एक साँस की तरह ... रिश्ते जब बंधते है तो ख़ुशी देत...


और अंत में 


मेरे ब्लॉग प्रेमरस.कॉम  पर
अदा जी ने तलाक़ पर एक लेख लिखा जिसका शीर्षक है "TROPHY WIVES... " उसपर मैंने टिप्पणी लिखी परतु जब वहां पेस्ट करने के लिए गया तो वहां टिप्पणी का विकल्प बंद...















अब आज्ञा दीजिये... अगले हफ्ते फिर मुलाकात होगी... एक और बुलेटिन के साथ...

लेखागार