Subscribe:

Ads 468x60px

रविवार, 28 अक्तूबर 2012

चमचे महान हैं... चमचे आलिशान हैं

इसकी टोपी उसके सर, कभी इधर तो कभी उधर का क्या अर्थ है? जी मनमोहन साहब को पूछिए आज उन्होंने यही काम किया है। सरकार की क्षवि बदलने के लिए आज जी तोड़ प्रयास हुए । जिन्होंने जितनी अच्छे से हाई कमान की सेवा की होगी उन्हें उतना और मोटे माल वाला मंत्रालय मिलेगा आखिर चमचा गिरी भी तो कोई चीज है न। चलिए लोक तंत्र का मान रखते हैं और आगे बढ़ते हैं।



चमचातंत्र हिंदुस्तान में एक सफल राजनीतिक मन्त्र है,  कोई भी दल हो कोई भी विचारधारा हो चमचे हिट हैं , हर तरफ चमचों का बोल बाला है।

चमचे महान हैं 
चमचे आलिशान हैं 
चमचो की दुनिया में हर काम आसन है 

चमचे मैडम जी के खास हैं 
चमचे न हों तो सर उदास हैं 
चमचे न हो तो मुद्दे, गुमशुदा की तलाश हैं 

वैसे चमचे हमारे यहाँ हमेशा से होते आ रहे हैं, हर राजा के दरबार में कुछ चमचे होते थे, आज भी होते हैं। जिसके जितने चमचे उसका उतना वर्चस्व.... आज भी देखिये किसी भी छुट-भैया टैप नेता हो या चाहे विधायक/ मंत्री/ अफसर बिना चमचे के किसी का गुज़ारा नहीं होता। 

चलिए इस चमचागिरी को नमस्कार करके अपने बुलेटिन को आगे बढाया जाए।

-------------------------------------------------------------
जिज्ञासा(JIGYASA) : अजंता के अंदर जो मानव और जंतु रूप चित्रित किए गए ह...

-------------------------------------------------------------
फंडामेंटल्स ऑफ एनर्जी
-------------------------------------------------------------
एक साधै .. सब सधे
-------------------------------------------------------------
'200''वीं पोस्ट ..// ''आ गयी दोस्त ''...!!!
-------------------------------------------------------------
** मेरा वजूद तुम संभाले रखना **
-------------------------------------------------------------
किन्तु सके सौ लील, समन्दर अचल समूचा-
-------------------------------------------------------------
जसपाल भट्टी वन मैन आर्मी अगेंस्ट करप्शन
-------------------------------------------------------------
'चाँद पर पानी' : श्रेष्ठतम लेखन की दिशा में गतिमान हैं कवयित्री आकांक्षा
-------------------------------------------------------------
एक वैज्ञानिक चेतना संपन्न ब्लागर का निरामिष चिंतन!
-------------------------------------------------------------
दूसरे देस में आने के बाद विचारों का परिवर्तन
-------------------------------------------------------------
राजपूत नारियों की साहित्य साधना : प्रेम कुंवरी

चलिए मित्रों आप लोग चमचा गिरी का मजा लीजिये और देव बाबा को कल तक के लिए अनुमति दीजिये

जय हिन्द


5 टिप्पणियाँ:

Shekhar Suman ने कहा…

चमचागिरी जिंदाबाद... :-)
देव भैया जिंदाबाद... :-)
ब्लॉग बुलेटिन जिंदाबाद.... :)

ऋता शेखर मधु ने कहा…

बढ़िया बुलेटिन...चमचागिरी भी अच्छी रही|

Vivek Rastogi ने कहा…

चमचों की महत्ता पर संदर्भ सहित व्याख्या के लिये धन्यवाद !

शिवम् मिश्रा ने कहा…

जय हो देव बाबा ... क्या खूब बुलेटिन लगाया है ... जय हो !

सुमित प्रताप सिंह Sumit Pratap Singh ने कहा…

चमचाम् शरणम् गच्छामि
ब्लॉगम् बुलेटिनम् अच्छामि!

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार