Subscribe:

Ads 468x60px

बुधवार, 17 अक्तूबर 2012

अनुभवों की पोटली कहो या गठरी


अनुभवों की पोटली कहो या गठरी 
अपनी तलाश में उसे खोला 
तो कई लोग मिले 
जिनके अनुभवों में उर्वरक शक्ति थी 
हवाओं में उन शक्तियों के अंश बिखेरे आगत के लिए 
धूप भी दिखाया 
ताकि कीड़े न लग जाये 
इस पूरी प्रक्रिया में कई चेहरों के मध्य 
मैं,तुम,आप,वो सब मिले 
उम्र, उम्र से परे, समय की गिरफ्त में 
एहसासों के अनुभव 
अपने आप में हितोपदेश से कम नहीं होते ...........


आज़ादी
कुछ-कुछ वैसी ही है 
जैसे छुटपन में 
पांच पैसे से खरीदा हुआ लेमनचूस 
जिसे खाकर मन खिल जाता था ...


या देवी सर्वभूतेषु शक्तिरूपेण संस्थिता , 
नमस्तस्यै  नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः ...

आत्महत्या के लिए प्रेरित व्यक्ति कोई न कोई इशारा जरूर देता है। जरूरत है ,
उसके आस-पास वालों को इस इशारे को समझने की। 



सजने लगे पंडाल
गलियों में
उत्साहित हैं बच्चे
गा रहे हैं झूमकर...
"ए हो!
का हो!
माता जी की
जय हो।"

बढ़ने लगी भीड़
मंदिर में
लगने लगे मेले
सुनाई पड़ रहा है भजन..
"या देवी सर्वभूतेषु
मातृ रूपेण संस्थिता
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै
नमो नमः।"

मेरे विचार मेरी अनुभूति: आह्वानी !


विघ्न हरो सब शुभ काम में 
लेकर साथ गजानन को,
रक्षाकरो भक्तों को दुष्टों से 
लेकर साथ षडानन को।

अगली गठरी बांधकर फिर आउंगी ................ अभी जाऊं ?

6 टिप्पणियाँ:

कालीपद प्रसाद ने कहा…

Rashmi Prabhaji , nau ratri ke avsar par bahut sundar sankalan ,Badhai, Aapne meri prarthana ke ek ansh shamil kiya,aabhar.

रेखा श्रीवास्तव ने कहा…

मेरी पोस्ट को ब्लॉग बुलेटिन पर लेने के लिए आभार !

सदा ने कहा…

मैं,तुम,आप,वो सब मिले
उम्र, उम्र से परे, समय की गिरफ्त में
एहसासों के अनुभव
लम्‍हा-लम्‍हा सुकून के शब्‍दों को बांधी गठरी से आपने जब यूँ खोला तो मिलना हुआ ...
सादर

चला बिहारी ब्लॉगर बनने ने कहा…

पोटली भी नहीं पिटारा!! :)

डॉ. जेन्नी शबनम ने कहा…

ब्लॉग बुलेटिन में मुझे स्थान देने के लिए ह्रदय से आभार.

Gurpreet Singh ने कहा…

एक नवीन प्रयास, धन्यवाद ।

MY BLOG
http://yuvaam.blogspot.com/p/blog-page_9024.html?m=0

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार