Subscribe:

Ads 468x60px

गुरुवार, 9 अगस्त 2012

काकोरी कांड की ८७ वी वर्षगांठ - ब्लॉग बुलेटिन

प्रिय ब्लॉगर मित्रो ,
प्रणाम !

आज ९ अगस्त है ... ८७ साल पहले आज ही दिन आज़ादी के मतवालों ने अँग्रेजी हुकूमत की चूले हिला दी थी ... और यह साबित कर दिया था भारत की युवा शक्ति जाग चुकी थी और अपने अधिकारों को केवल मांगना ही नहीं जरूरत पड़ने पर छिनना भी जानती थी !




भारतीय स्वाधीनता संग्राम में काकोरी कांड एक ऐसी घटना है जिसने अंग्रेजों की नींव झकझोर कर रख दी थी। अंग्रेजों ने आजादी के दीवानों द्वारा अंजाम दी गई इस घटना को काकोरी डकैती का नाम दिया और इसके लिए कई स्वतंत्रता सेनानियों को 19 दिसंबर 1927 को फांसी के फंदे पर लटका दिया।
फांसी की सजा से आजादी के दीवाने जरा भी विचलित नहीं हुए और वे हंसते-हंसते फांसी के फंदे पर झूल गए। बात 9 अगस्त 1925 की है जब चंद्रशेखर आजाद, राम प्रसाद बिस्मिल, अशफाक उल्ला खान, राजेंद्र लाहिड़ी और रोशन सिंह सहित 10 क्रांतिकारियों ने मिलकर लखनऊ से 14 मील दूर काकोरी और आलमनगर के बीच ट्रेन में ले जाए जा रहे सरकारी खजाने को लूट लिया।
दरअसल क्रांतिकारियों ने जो खजाना लूटा उसे जालिम अंग्रेजों ने हिंदुस्तान के लोगों से ही छीना था। लूटे गए धन का इस्तेमाल क्रांतिकारी हथियार खरीदने और आजादी के आंदोलन को जारी रखने में करना चाहते थे।
इतिहास में यह घटना काकोरी कांड के नाम से जानी गई, जिससे गोरी हुकूमत बुरी तरह तिलमिला उठी। उसने अपना दमन चक्र और भी तेज कर दिया।
अपनों की ही गद्दारी के चलते काकोरी की घटना में शामिल सभी क्रांतिकारी पकडे़ गए, सिर्फ चंद्रशेखर आजाद अंग्रेजों के हाथ नहीं आए। हिंदुस्तान सोशलिस्ट रिपब्लिकन आर्मी के 45 सदस्यों पर मुकदमा चलाया गया जिनमें से राम प्रसाद बिस्मिल, अशफाक उल्ला खान, राजेंद्र लाहिड़ी और रोशन सिंह को फांसी की सजा सुनाई गई।
ब्रिटिश हुकूमत ने पक्षपातपूर्ण ढंग से मुकदमा चलाया जिसकी बड़े पैमाने पर निंदा हुई क्योंकि डकैती जैसे मामले में फांसी की सजा सुनाना अपने आप में एक अनोखी घटना थी। फांसी की सजा के लिए 19 दिसंबर 1927 की तारीख मुकर्रर की गई लेकिन राजेंद्र लाहिड़ी को इससे दो दिन पहले 17 दिसंबर को ही गोंडा जेल में फांसी पर लटका दिया गया। राम प्रसाद बिस्मिल को 19 दिसंबर 1927 को गोरखपुर जेल और अशफाक उल्ला खान को इसी दिन फैजाबाद जेल में फांसी की सजा दी गई।
फांसी पर चढ़ते समय इन क्रांतिकारियों के चेहरे पर डर की कोई लकीर तक मौजूद नहीं थी और वे हंसते-हंसते फांसी के फंदे पर चढ़ गए।
काकोरी की घटना को अंजाम देने वाले आजादी के सभी दीवाने उच्च शिक्षित थे। राम प्रसाद बिस्मिल प्रसिद्ध कवि होने के साथ ही भाषायी ज्ञान में भी निपुण थे। उन्हें अंग्रेजी, हिंदुस्तानी, उर्दू और बांग्ला भाषा का अच्छा ज्ञान था।
अशफाक उल्ला खान इंजीनियर थे। काकोरी की घटना को क्रांतिकारियों ने काफी चतुराई से अंजाम दिया था। इसके लिए उन्होंने अपने नाम तक बदल लिए। राम प्रसाद बिस्मिल ने अपने चार अलग-अलग नाम रखे और अशफाक उल्ला ने अपना नाम कुमार जी रख लिया।
खजाने को लूटते समय क्रान्तिकारियों को ट्रेन में एक जान पहचान वाला रेलवे का भारतीय कर्मचारी मिल गया। क्रांतिकारी यदि चाहते तो सबूत मिटाने के लिए उसे मार सकते थे लेकिन उन्होंने किसी की हत्या करना उचित नहीं समझा।
उस रेलवे कर्मचारी ने भी वायदा किया था कि वह किसी को कुछ नहीं बताएगा लेकिन बाद में इनाम के लालच में उसने ही पुलिस को सब कुछ बता दिया। इस तरह अपने ही देश के एक गद्दार की वजह से काकोरी की घटना में शामिल सभी जांबाज स्वतंत्रता सेनानी पकड़े गए लेकिन चंद्रशेखर आजाद जीते जी कभी अंग्रेजों के हाथ नहीं आए।
 
सभी जांबाज क्रांतिकारियों को शत शत नमन |
 
सादर आपका 
 
============================= 
posted by सतीश सक्सेना at मेरे गीत !
आज अनुप्रिया और उसके अजन्में बच्चे की तेरहवीं है , आज से इस बच्ची को भूलना शुरू करेंगे .... हम आज से बच्चे तुझे बस दिल में रखेंगे तेरी याद कुछ ऐसी हैं , भुलाई नहीं जाती ! जब भी कहीं जायंगे , तुझे ले...
posted by Navin C. Chaturvedi at ठाले बैठे
जमुना के तट नटखट मो सों अटकत झटकत मटकत गैल अटकावै है मैं जो कहों गुप-चुप माखन तू खाय लै तौ माखन न खावै ग्वाल - बालन बुलावै है ग्वाल-बाल संग लावै गगरी छुड़ावै, खूब- खावै औ खवाबै ब्रज - रज में मिलावै है ती...
posted by पी.सी.गोदियाल "परचेत" at अंधड़ !
posted by Udan Tashtari at उड़न तश्तरी ....
मेरे हमसफर मेरा साथ दे, मैं बहुत दिनों से उदास हूँ.. मेरे गीत को कोई साज दे, मैं बहुत दिनों से उदास हूँ मुझे हाल तिरा जो दे सके मुझे उस खबर की तलाश है मेरी बात का तू ही जबाब दे, मैं बहुत दिनों से उदास ह...
एमसी मेरीकॉमअपनी श्रेणी में कई बार विश्वविजेता रहीं मणिपुर की मैरीकॉम से भारत को बड़ी उम्मीदें थीं। काँस्य लाकर भी उन्होंने देश को गर्व का एक अवसर तो दिया ही है साथ ही एक बार यह सोचने का अवसर भी दिया है कि...
posted by डॉ॰ मोनिका शर्मा at परवाज़...शब्दों के पंख
फिज़ा और गीतिका के साथ जो कुछ भी हुआ इस विषय में सबकी अपनी-अपनी सोच हो सकती है। किसी के लिए यह आज के दौर की लड़कियों की अति-महत्वाकांक्षी सोच का परिणाम है तो किसी के लिए नेताओं के जीवन से नदारद होते मा...
posted by Archana at मेरे मन की
*जन्माष्टमी पर्व की सभी को बधाई व शुभकामनाएँ....* प्रस्तुत है मीराबाई की एक रचना- (स्वर-अर्चना)... स्याम म्हाने चाकर राखो जी, गिरधारी लाला म्हाने चाकर राखो जी। चाकर रहस्यूँ बाग लगास्यूँ, नित उठ दरसण पास...
posted by अभिषेक प्रसाद at खामोशी... 
आज फिर बहुत दिनों के बाद लिखने की हिम्मत जुटा रहा हूँ. पर न आज कोई कविता लिखूंगा और न ही कोई आलेख, न किसी सामाजिक मुद्दे को उठाऊंगा और न ही कोई आप-बीती सुनाऊंगा. आज एक प्रेम कहानी सुनाऊंगा. एक छोटी सी प्र...
posted by गगन शर्मा, कुछ अलग सा at कुछ अलग सा 
*सिर्फ देखिए और आनंद ले मुस्कुराइये *
posted by रश्मि प्रभा... at मेरी नज़र से 
एक दिन अचानक क्षितिज के उस पार तेरा कांत रूप दिखा था मुझे। मैं दौड़ा था तुम्हें रोकने के लिये अपना अवलम्ब बचाने के लिये। पर काल के वायु-वृत ने अपने आगोश में भर लिया था और फेंक दिया था क्षितिज के दूसरे कि...
posted by आमिर दुबई at एक ब्लॉग सबका 
*नए या पुराने ब्लोगर्स हों कई बार ब्लोगिंग करते करते ही ब्लोगिंग से मोह भंग हो जाता है.इसकी भी बहुत सारी वजह होती है.मैंने बहुत सारे ब्लोगर्स को मायूस होते देखा है.वो ब्लोगिंग छोड़ देते हैं.या फिर इंटरनेट...
 =============================
posted by शिवम् मिश्रा at बुरा भला 
भारतीय स्वाधीनता संग्राम में काकोरी कांड एक ऐसी घटना है जिसने अंग्रेजों की नींव झकझोर कर रख दी थी। अंग्रेजों ने आजादी के दीवानों द्वारा अंजाम दी गई इस घटना को काकोरी डकैती का नाम दिया और इसके लिए कई स्व...
 =============================

इंक़लाब जिंदाबाद !!!

14 टिप्पणियाँ:

पी.सी.गोदियाल "परचेत" ने कहा…

देश के इन सपूतों को नमन और आपको जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकानाए शिवम् जी ! पता नहीं कभी-कभार क्यों लगता है कि अपने इन वीरों की कुर्बानी बेकार गई !

Archana ने कहा…

आभार शिवम..इस पोस्ट का हिस्सा बनाने के लिए....

गगन शर्मा, कुछ अलग सा ने कहा…

शहीदों को शत-शत नमन

अजय कुमार झा ने कहा…

हमेशा की तरह अनमोल और अदभुत प्रस्तावना शिवम भाई । सच कहा आपने यदि उन दिनों , देश के कुछ दीवानें यूं अपने सर पर कफ़न नहीं बांधते तो आज शायद हम खुली हवा में सांस नहीं ले रहे होते । अब ये हमारी बद्किस्मती है कि आज फ़िर हम उसी परिवेश में खडे हैं जहां से जागने और जगने की ज्ररूरत महसूस की जा रही है । लिंक्स सब पर हो के आते हैं । बुलेटिन चकाचक है ।

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

बहुत ही सुन्दर सूत्र..

चला बिहारी ब्लॉगर बनने ने कहा…

इतिहास के भूले बिसरे सिपाहियों और घटनाओं को सहेजने और समेटने में आप्काकोई मुकाबला नहीं!! नमन उन सेनानियों को..!

रश्मि प्रभा... ने कहा…

इस आलेख ने कई चेहरे याद दिला दिए ...

veerubhai ने कहा…

कुर्बानियां कभी व्यर्थ नहीं होतीं अतीत नहीं होती स्वरूप बदल जाता है आज राम देव जी हैं ,करेंगे कुछ ज़रूर ,रंग तो उड़ा दिया सरकार का मेरे यार का ... .जन्म अष्टमी मुबारक -कृपया यहाँ भी देखें -
बृहस्पतिवार, 9 अगस्त 2012
औरतों के लिए भी है काइरोप्रेक्टिक चिकित्सा प्रणाली
औरतों के लिए भी है काइरोप्रेक्टिक चिकित्सा प्रणाली

डॉ॰ मोनिका शर्मा ने कहा…

बढ़िया बुलेटिन ...शामिल किया आभार

महेन्द्र श्रीवास्तव ने कहा…

बढिया बुलेटिन

Kulwant Happy "Unique Man" ने कहा…

Nice..

शिवम् मिश्रा ने कहा…

आप सब का बहुत बहुत आभार !

देवेन्द्र पाण्डेय ने कहा…

काकोरी कांड की याद दिलाने के लिए आभार।

आमिर दुबई ने कहा…

ख़ास आपका शुक्रिया की आपने एक ब्लॉग सबका में भेजी गई पोस्ट को अपने बुलेटिन में शामिल किया.वाकई ये मेरे लिए सम्मान है.



मोहब्बत नामा
मास्टर्स टेक टिप्स

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार