Subscribe:

Ads 468x60px

मंगलवार, 6 मार्च 2012

कर्मण्येवाधिकारस्ते मा फ़लेषु कदाचन....- ब्लॉग बुलेटिन

लीजिये पेश है आज का बोलता बुलेटिन ... ब्लॉग बुलेटिन ... मेरी आवाज़ में ...






बहुत दिन पहले की बात है 

कोस कोस पर बदले पानी चार कोस पर पानी

घुमक्कड़ी किस्मत से मिलती है -समय व पैसों से नहीं   

अध्ययन और अभिव्यक्ति की साझेदारी की नदी

 मेरे मन की तरंग 

सुरे बेसुरे गीतों का चिट्ठा

मुक्त विचारों का संगम

टेढ़ी दुनियाँ पर रवि की तिर्यक रेखाएँ

हम तो आवाज़ हैं दीवारों से छन जाते हैं 

बंदर चढ़ा है पेड़ पे करता टिली लिली...

जिंदगी यादों का करवाँ है 

पिट ऑडियो

आप या तो स्वस्थ हैं या बीमार 

घुमक्कड़ी जिन्दाबाद !!


उम्मीद है यह प्रयास आप सब को पसंद आया होगा ... फिर मिलेंगे !

7 टिप्पणियाँ:

shikha varshney ने कहा…

बढ़िया पेशकश.

वन्दना ने कहा…

ये अन्दाज़ भी बहुत खूबसूरत है …………सुन्दर बुलेटिन

शिवम् मिश्रा ने कहा…

वाह बढ़िया रहा यह अंदाज़ भी ... सब ब्लॉग काम के है ... बेहद उम्दा बुलेटिन सुनाया अर्चना दीदी ... आभार आपका और साथ साथ पाबला जी का भी उनकी तकनीकी मदद के लिए ... ;)

रश्मि प्रभा... ने कहा…

आपका तो हर कर्म श्रेष्ठ है... लिंक्स भी श्रेष्ठ

अनूप शुक्ल ने कहा…

सुन्दर प्रस्तुति!

देव कुमार झा ने कहा…

bahut achcha laga,office me baithe baithe sun liye... :-)

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन ने कहा…

बुलेटिन को बोलता सुनकर अच्छा लगा, आभार! सभी को होली की शुभकामनायें!

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार