Subscribe:

Ads 468x60px

शनिवार, 25 फ़रवरी 2012

नाम गुम जाएगा - ब्लॉग बुलेटिन

प्रिय ब्लॉगर मित्रो ,
प्रणाम !

एक बार झा जी को उनके दोस्त मिश्रा जी ने रात के खाने पर आमन्त्रित किया, जहाँ उन्होंने ग़ौर किया कि उनके दोस्त अपनी पत्नी से कुछ कहने के बाद उसे कुछ खास शब्दों से सम्बोधित करते है जैसे: हनी, डार्लिंग, स्वीटहार्ट, जानू इत्यादि!

 वह उनसे बहुत प्रभावित हुए , क्योंकि उन दोनों की शादी को २५ साल हो चुके थे और वे दोनों विवाहित जीवन बिता रहे थे!

 जब मिश्राजी  की पत्नी रसोई में थी तो झा जी  ने कहा, मुझे लगता है कि यह कमाल की बात है कि इतने सालों के बाद भी तुम अपनी पत्नी को इतने प्यारे नामों से बुलाते हो!

 मिश्रा जी  ने अपना सिर झटकते हुए कहा, अरे ऐसा नहीं है यार मैं तुम्हें सच्चाई बताता हूँ वास्तव में मुझे पिछले दस सालों से मुझे यही याद नहीं है कि उसका नाम क्या है?

यह तो हुयी मिश्रा जी और झा जी की बात ... आप अपनी कहिये ... आप क्या करते है ... ;-)


सादर आपका 


=========================================================== 













=========================================================== 




अब आज्ञा दीजिये ...


जय हिंद !!

13 टिप्पणियाँ:

lokendra singh rajput ने कहा…

प्रिय शिवम जी अपने को तो फिलहाल अच्छे से याद है। एक ही साल तो बीता है।

dheerendra ने कहा…

अति उत्तम,सराहनीय ब्लॉग बुलेटिन,......

NEW POST..काव्यान्जलि...चिंगारी.

Vibha Rani Shrivastava ने कहा…

शिवम्(मिश्रा) भाई की यादाश्त की दिलखोलकर प्रशंसा करनी होगी ,है न अजय(झा)भाई.... :) इतने अच्छे-अच्छे लिंक्स जुटाने के परेशानी में कुछ तो गम(गुम)होजाना स्वाभाविक है.... ?? दुल्हन आपको माफ करे.... ?? शिवम् भाई अगर आपको बुरा लगे तो आप मुझे माफ करे.... :):)

अविनाश वाचस्पति ने कहा…

रहें तैयार मिलें पुस्‍तक मेले में इस बार
हाल नंबर 6,सम्‍मेलन कक्ष 2, समय 3 बजे से
हिंदी चिट्ठाकार जहां जुट रहे हैं
प्रगति मैदान में आपस में भर भर कर बेशुमार प्‍यार
तारीख दूर नहीं कल 27 फरवरी और अपने अपने
हथियार अवश्‍य ले आना, बिल्‍कुल मनाही नहीं है
कैमरे, मोबाइल जैसे गैजेट्स की दरकार यही हैं
अंतर्जाल पर पूरा माहौल बनाना है
सारी खबरों को खबरदार करते हुए अपनी खबर को
जमाने को दिखाना है
फिल्‍म से भी अलग अब न्‍यू मीडिया का जोरदार जमाना है।

अजय कुमार झा ने कहा…

हा हा हा ..अच्छा अच्छा होलियाने लगे आप । ई विभा दीदी देख पढ ली हैं ...जबले कभियो मिसराईन आ झजियाईन से रूबरू हुई न ..त उसके बाद नेम सरनेम के साथ ..अता पता सब बिसरा जाएगा । लिंक्स सब बेहतरीन हैं

रश्मि प्रभा... ने कहा…

:) बेनाम से नाम भला , भ्रम तो जिंदा है ! बेबी स्टेप्स - पर बहुत कुछ

मनोज कुमार ने कहा…

यह बुलेटीन अच्छा लगा।

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

संक्षिप्त व प्रभावी बुलेटिन...किसका था...

S.M.HABIB (Sanjay Mishra 'Habib') ने कहा…

बढ़िया बुलेटिन...
सादर आभार.

वन्दना ने कहा…

बढ़िया बुलेटिन...
सादर आभार.

संगीता तोमर Sangeeta Tomar ने कहा…

शिवम मिश्रा भैया बुलेटिन तो जबरदस्त लगाई
खुद को यहाँ देख आपकी कलम घिस्सी मुस्काई...

Pallavi ने कहा…

नाम गुम जाएगा अपना तो पहले ही गुमा हुआ है :) बढ़िया बुलेटिन

शिवम् मिश्रा ने कहा…

आप सब का बहुत बहुत आभार !

एक टिप्पणी भेजें

बुलेटिन में हम ब्लॉग जगत की तमाम गतिविधियों ,लिखा पढी , कहा सुनी , कही अनकही , बहस -विमर्श , सब लेकर आए हैं , ये एक सूत्र भर है उन पोस्टों तक आपको पहुंचाने का जो बुलेटिन लगाने वाले की नज़र में आए , यदि ये आपको कमाल की पोस्टों तक ले जाता है तो हमारा श्रम सफ़ल हुआ । आने का शुक्रिया ... एक और बात आजकल गूगल पर कुछ समस्या के चलते आप की टिप्पणीयां कभी कभी तुरंत न छप कर स्पैम मे जा रही है ... तो चिंतित न हो थोड़ी देर से सही पर आप की टिप्पणी छपेगी जरूर!

लेखागार